Friday, September 17, 2021
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेस में लौट सकती हैं AAP विधायक अलका लांबा, सोनिया गाँधी से की मुलाकात

कॉन्ग्रेस में लौट सकती हैं AAP विधायक अलका लांबा, सोनिया गाँधी से की मुलाकात

दिल्ली में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में अलका का कॉन्ग्रेस में जाना दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के लिए बड़ा झटका होगा। हालाँकि काफी समय से दोनों के रिश्ते बेहद तल्ख़ हैं।

दिल्ली के चॉंदनी चौक से आम आदमी पार्टी (आप) की विधायक अलका लांबा कॉन्ग्रेस ज्वाइन कर सकती हैं। उन्होंने मंगलवार को कॉन्ग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गॉंधी से मुलाकात की। आप में शामिल होने से पहले अलका कॉन्ग्रेस में ही थीं।

दिल्ली में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में अलका का कॉन्ग्रेस में जाना दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के लिए बड़ा झटका होगा। हालाँकि काफी समय से दोनों के रिश्ते बेहद तल्ख़ हैं।

बता दें कि, लांबा ने बीते दिनों ट्वीट कर आम आदमी पार्टी से इस्तीफा देने की बात कही थी। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा था, “आम आदमी पार्टी में सम्मान से समझौता करके रहने से बेहतर है कि मैं पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दूँ और अगला चुनाव चाँदनी चौक विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर लडूँ।” हाल में उन्होंने केजरीवाल पर बदले की भावना से काम करने का भी आरोप लगाया था।

गौरतलब है कि, आम आदमी पार्टी में शामिल होने से पहले अलका लाम्बा कॉन्ग्रेस पार्टी की सदस्य रह चुकी हैं, वह कॉन्ग्रेस पार्टी की छात्र इकाई नेशनल स्टूडेंट यूनियन ऑफ इंडिया (NSUI) की नेता के तौर पर दिल्ली विश्वविद्यालय में छात्र इकाई के अध्यक्ष पद का चुनाव जीत चुकी हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राचीन महादेवम्मा मंदिर विध्वंस मामले में मैसूर SP को विहिप नेता ने लिखा पत्र, DC और तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई की माँग

विहिप के नेता गिरीश भारद्वाज ने मैसूर के उपायुक्त और नंजनगुडु के तहसीलदार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए SP के पास शिकायत दर्ज कराई है।

कोहाट दंगे: खिलाफ़त आंदोलन के लिए हुई ‘डील’ ने कैसे करवाया था हिंदुओं का सफाया? 3000 का हुआ था पलायन

10 सितंबर 1924 को करीबन 4000 की मुस्लिम भीड़ ने 3000 हिंदुओं को इतना मजबूर कर दिया कि उन्हें भाग कर मंदिर में शरण लेनी पड़ी। जो पीछे छूटे उन्हें मार डाला गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,744FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe