Saturday, July 31, 2021
Homeराजनीतिभोपाल में हजारों मुस्लिमों की भीड़ के साथ उतरने वाले कॉन्ग्रेस MLA आरिफ मसूद...

भोपाल में हजारों मुस्लिमों की भीड़ के साथ उतरने वाले कॉन्ग्रेस MLA आरिफ मसूद ने कहा- बस चलता तो फ्रांस के राष्ट्रपति का चेहरा कुचल देता

फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों की ओर से पैगंबर मोहम्मद पर की गई टिप्पणी के खिलाफ भोपाल में गुरुवार को हजारों मुस्लिम सड़क पर उतर आए और प्रदर्शन किया। इस विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व कॉन्ग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने किया। विरोध प्रदर्शन के दौरान मसूद ने कहा कि अगर उनका बस चलता, तो वे राष्ट्रपति मैक्रों का चेहरा कुचल देते....

शार्ली हेब्दो नामक एक फ्रांसीसी व्यंग्य पत्रिका द्वारा पैगंबर मोहम्मद के कार्टून चित्रण और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की रक्षा और कट्टरपंथी इस्लाम की निंदा ने दुनिया भर में मुस्लिमों को भड़का दिया है। वहीं भारत सरकार ने इस्लामी आतंकवादियों द्वारा फ्रांसीसी लोगों पर हाल ही में किए गए हमलों पर फ्रांस के साथ एकजुटता व्यक्त की। तो दूसरी ओर भारत में कुछ मुस्लिम नेताओं और संगठनों ने फ्रांसीसी राष्ट्रपति की निंदा करते हुए उनपर पैगंबर का अपमान करने का आरोप लगाया है।

फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों की ओर से पैगंबर मोहम्मद पर की गई टिप्पणी के खिलाफ भोपाल में गुरुवार को हजारों मुस्लिमों की भीड़ सड़क पर उतर आई और प्रदर्शन किया। इस विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व कॉन्ग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने किया। विरोध प्रदर्शन के दौरान मसूद ने कहा कि अगर उनका बस चलता, तो वे राष्ट्रपति मैक्रों का चेहरा कुचल देते। उन्होंने आगे कहा, “हमारे हाथ बंधे हुए हैं क्योंकि हम कानून के पालन करने वाले नागरिक हैं और हमें हमारे अल्लाह के नबी द्वारा शांति की शिक्षा दी गई है।”

भोपाल सेंट्रल के कॉन्ग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रो के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का आयोजन किया था। मसूद ने अपने एक ट्वीट में कहा कि पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ अपमानजनक बात बोलने के लिए फ्रांसीसी राष्ट्रपति के विरोध में गुरुवार को हजारों मुस्लिम इकबाल मैदान में इकट्ठे हुए थे।

इस बीच पुलिस ने विधायक आरिफ मसूद समेत 2 हजार अज्ञात लोगों पर कोरोना गाइडलाइन का पालन ना करने को लेकर केस दर्ज कर लिया है।

कथित रूप से पैगंबर मोहम्मद का अपमान करने के लिए फ्रांस के खिलाफ देवबंद के प्रमुख, मौलाना मुफ्ती अबुल कासिम नोमानी, देवबंद, ने इस्लामिक ऑर्गनाइजेशन ऑफ कोऑपरेशन (OIC), अरब लीग और अन्य मुस्लिम देशों ने नाराजगी जताते हुए फ्रांस के खिलाफ कार्रवाई करने की माँग की है।

इस्लामिक मदरसा ने भारत सरकार से फ्रांस सरकार की निंदा करने और ईशनिंदा करने वालो के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय कानून लाने की अपील भी की है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ये नंगे, इनके हाथ अपराध में सने, फिर भी शर्म इन्हें आती नहीं… क्योंकि ये है बॉलीवुड

राज कुंद्रा या गहना वशिष्ठ तो बस नाम हैं। यहाँ किसिम किसिम के अपराध हैं। हिंदूफोबिया है। खुद के गुनाहों पर अजीब चुप्पी है।

‘द प्रिंट’ ने डाला वामपंथी सरकार की नाकामी पर पर्दा: यूपी-बिहार की तुलना में केरल-महाराष्ट्र को साबित किया कोविड प्रबंधन का ‘सुपर हीरो’

जॉन का दावा है कि केरल और महाराष्ट्र पर इसलिए सवाल उठाए जाते हैं, क्योंकि वे कोविड-19 मामलों का बेहतर तरीके से पता लगा रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,277FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe