बंगाल में भाजपा का एक और जांबाज चढ़ा TMC के गुंडों की भेंट: विजयवर्गीय ने कहा- ये बलिदान निरर्थक नहीं जाएगा

"पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र की रक्षा करते हुए भाजपा का एक और जांबाज कार्यकर्ता TMC की गुंडागर्दी की भेंट चढ़ गया! हबीबपुर ग्राम पंचायत के भाजपा कार्यकर्ता श्री हरलाल देबनाथ जी की ममता के गुंडों ने गोली मारकर हत्या कर दी।"

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में आरएसएस स्वयंसेवक और उसके परिवार की हत्या का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ कि एक और भाजपा कार्यकर्ता की हत्या का मामले सामने आ गया। ये मामला बंगाल के नदिया जिले के राणाघाट थाने का है। जहाँ हबीबपुर पंचायत के 21 नंबर बूथ के 50 वर्षीय भाजपा नेता हरलाल देबनाथ की कल देर रात गोली मारकर हत्या कर दी गई।

प्राप्त जानकारी के अनुसार वारदात के समय हरलाल देबनाथ देर रात अपनी दुकान बंद करके घर जा रहे थे। तभी, कुछ बदमाशों ने काफ़ी नजदीक आकर फायरिंग कर दी। जिसके कारण उनकी मौक़े पर ही मौत हो गई।

नदिया जिले के भाजपा अध्यक्ष मानवेंद्र राय के अनुसार मृतक हरलाल एक लड़ाकू कार्यकर्ता थे और इलाके में भाजपा के बढ़ते जनाधार के लिए वे एक मात्र सूत्रधार थे। भाजपा अध्यक्ष का कहना है कि बीते दो चुनावों में उन्होंने भाजपा के लिए अहम भूमिका निभाई थी। जिस कारण सत्ताधारी पार्टी टीएमसी के लोगों ने उनकी हत्या करवाई।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

मीडिया खबरों के अनुसार इस घटना की सूचना मिलते ही राणाघाट थाने के पुलिस अधिकारी मौक़े पर पहुँचे और भाजपा कार्यकर्ता को कल्याणी अस्पताल में भर्ती करवाया गया। यहाँ डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

खुद भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के सांगठनिक महासचिव सुब्रत चटर्जी ने शनिवार सुबह इस घटना की जानकारी ट्विटर पर दी। उन्होंने ट्वीट किया, “पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र की रक्षा करने के दौरान भाजपा के एक और कार्यकर्ता को बलिदान होना पड़ा है। देबनाथ की तृणमूल कॉन्ग्रेस के अपराधियों ने गोली मारकर हत्या की है।”

वहीं, भाजपा के बंगाल में राष्ट्रीय सचिव कैलाश विजयवर्गीय ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को टैग करते हुए लिखा, “पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र की रक्षा करते हुए भाजपा का एक और जांबाज कार्यकर्ता TMC की गुंडागर्दी की भेंट चढ़ गया! हबीबपुर ग्राम पंचायत के भाजपा कार्यकर्ता श्री हरलाल देबनाथ जी की ममता के गुंडों ने गोली मारकर हत्या कर दी।” उन्होंने कहा, “ये बलिदान निरर्थक नहीं जाएगा।”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बरखा दत्त
मीडिया गिरोह ऐसे आंदोलनों की तलाश में रहता है, जहाँ अपना कुछ दाँव पर न लगे और मलाई काटने को खूब मिले। बरखा दत्त का ट्वीट इसकी प्रतिध्वनि है। यूॅं ही नहीं कहते- तू चल मैं आता हूँ, चुपड़ी रोटी खाता हूँ, ठण्डा पानी पीता हूँ, हरी डाल पर बैठा हूँ।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

118,018फैंसलाइक करें
26,176फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: