Thursday, July 29, 2021
Homeराजनीतिजिस कॉन्ग्रेस की सेवा की उसने अपमानित किया, PM मोदी ने सम्मान दिया: नरसिम्हा...

जिस कॉन्ग्रेस की सेवा की उसने अपमानित किया, PM मोदी ने सम्मान दिया: नरसिम्हा राव के पोते ने सोनिया-राहुल को फटकारा

उन्होंने सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी की वीडियो के स्क्रिप्ट पर भी सवाल उठाए, जिसमें उन्होंने राव की तारीफ की है। एनवी सुभाष ने कहा कि इस वीडियो का स्क्रिप्ट किसी और ने लिखा है। उन्होंने आरोप लगाया कि नरसिम्हा राव दक्षिण भारत से थे और गाँधी परिवार से बाहर के थे, इसीलिए उन्हें लगातार नज़रअंदाज़ किया गया।

सोनिया गाँधी द्वारा भारत के पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव की तारीफ किए जाने के बाद उनके पोते ने कॉन्ग्रेस पार्टी को जम कर खरी-खोटी सुनाई है। पूर्व पीएम के पोते एनवी सुभाष ने कहा कि कॉन्ग्रेस सिर्फ दिखावे के लिए दिवंगत पीएम की जन्म शताब्दी मनाने की बातें कर रही है। उन्होंने कहा कि पार्टी ने हमेशा उनके दादा नरसिम्हा राव का और उनके योगदानों का अपमान ही किया। उन्होंने आरोप लगाया कि कॉन्ग्रेस ने राव की विरासत को खो दिया है।

बता दें कि कॉन्ग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी के निर्देशों की बात करते हुए तेलंगाना कॉन्ग्रेस ने पूर्व पीएम की जन्म शताब्दी मनाने का निर्णय लिया है। उनके पोते ने इसे नाममात्र का दिखावा करार दिया। उन्होंने कहा कि नरसिम्हा राव ने कठिन परिस्थितियों में कॉन्ग्रेस व देश का नेतृत्व सम्भाला था, कॉन्ग्रेस पार्टी की इतनी सेवा की, बावजूद इसके पार्टी ने उनका अपमान किया।

साथ ही उन्होंने सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी की वीडियो के स्क्रिप्ट पर भी सवाल उठाए, जिसमें उन्होंने राव की तारीफ की है। एनवी सुभाष ने कहा कि इस वीडियो का स्क्रिप्ट किसी और ने लिखा है। उन्होंने आरोप लगाया कि नरसिम्हा राव दक्षिण भारत से थे और गाँधी परिवार से बाहर के थे, इसीलिए उन्हें लगातार नज़रअंदाज़ किया गया। साथ ही उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि कॉन्ग्रेस ने कार्यक्रमों को तेलंगाना तक ही सीमित कर रखा है। उन्होंने कहा:

“यूपीए काल में किसी भी बड़े कॉन्ग्रेस नेता ने दिवंगत पूर्व पीएम नरसिम्हा राव के जन्मदिवस या पुण्यतिथि के कार्यक्रमों में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। अब उनकी मौत के 16 सालों बाद आप कार्यक्रम क्यों आयोजित कर रहे हो? कॉन्ग्रेस आलाकमान ने उनके योगदानों को हाइलाइट नहीं किया। दिल्ली में कोई कार्यक्रम नहीं हो रहा। कॉन्ग्रेस उन्हें तेलंगाना तक ही क्यों सीमित करना चाहती है? वो तो एक राष्ट्रीय नेता थे।”

तेलंगाना में भाजपा के प्रवक्ता एनवी सुभाष ने ये भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नरसिम्हा राव के योगदानों को याद करना और उनके कार्यों की सराहना करना शुरू किया है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी अपने सार्वजनिक भाषणों में हमेशा नरसिम्हा राव के बारे में अच्छा बोलते हैं। साथ ही उन्होंने उनके मेमोरियल के लिए भी दिल्ली में ज़मीन उपलब्ध कराई है, जिसका वादा कर के यूपीए सरकार मुकर गई थी। उन्होंने पीएम मोदी द्वारा राव की याद में पोस्टल स्टाम्प जारी किए जाने की याद दिलाई।

बता दें कि कॉन्ग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी और उनके बेटे राहुल गाँधी ने पूर्व पीएम नरसिम्हा राव की जन्म शताब्दी वाले एक कार्यक्रम में हिस्सा लिया था और अपना सन्देश भी प्रेषित किया था। तेलंगाना कॉन्ग्रेस ने भी आयोजन किए थे। गाँधी भवन में हुए आयोजन में कॉंग्रेसनेताओं पी चिदंबरम और जयराम रमेश ने भी वर्चुअल रूप से शिरकत की थी। इससे राव के पोते एनवी सुभाष नाराज़ हैं।

सोनिया ने पत्र में लिखा, “राज्य और राष्ट्रीय राजनीति में एक लंबे कैरियर के बाद वह गंभीर आर्थिक संकट के समय भारत के प्रधानमंत्री बने। उनके साहसिक नेतृत्व के माध्यम से हमारा देश कई चुनौतियों को सफलतापूर्वक पार करने में सक्षम हुआ। 24 जुलाई 1991 का केंद्रीय बजट और हमारे देश के आर्थिक परिवर्तन का मार्ग प्रशस्त किया।” वहीं पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने राव को देश का ‘महान सपूत’ और भारत में आर्थिक सुधारों का जनक बताया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,739FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe