Thursday, July 29, 2021
Homeराजनीति'कोर्ट रूम इतने छोटे हैं, मुझे लगा यहाँ कोर्ट कॉम्प्लेक्स में हमारे पास बेहतर...

‘कोर्ट रूम इतने छोटे हैं, मुझे लगा यहाँ कोर्ट कॉम्प्लेक्स में हमारे पास बेहतर कोर्ट रूम होंगे’- चिदंबरम

चिदंबरम ने सीबीआई कोर्ट में उन्हें पेश करने वाले अधिकारियों से कहा, "कोर्ट रूम इतने छोटे हैं। मुझे लगा कि यहाँ नए कोर्ट कॉम्प्लेक्स में अब हमारे पास बेहतर कोर्ट रूम होंगे।"

पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम उस समय आश्चर्य में पड़ गए जब उन्हें आज नई दिल्ली के रोसे एवेन्यू कॉम्प्लेक्स में विशेष सीबीआई अदालत के समक्ष पेश किया गया। चिदंबरम ने सीबीआई अधिकारियों के साथ बातचीत में, आश्चर्य व्यक्त किया कि नए परिसर में कोर्ट रूम बहुत छोटे थे।

चिदंबरम ने सीबीआई कोर्ट में उन्हें पेश करने वाले अधिकारियों से कहा, “कोर्ट रूम इतने छोटे हैं। मुझे लगा कि यहाँ नए कोर्ट कॉम्प्लेक्स में अब हमारे पास बेहतर कोर्ट रूम होंगे।”

जाम से भरे कोर्ट रूम में, सीबीआई अधिकारियों ने उन्हें बताया कि राउज एवेन्यू कॉम्प्लेक्स में कोर्ट रूम छोटे हैं। अधिकारियों ने उन्हें बताया, “यह सभी बड़े मामलों की एक समस्या है। कोयला घोटाला मामले में, सभी अभियुक्तों को अदालत कक्ष के अंदर फिट करना असंभव है।”

राउज़ एवेन्यू कॉम्प्लेक्स का उद्घाटन इस साल अप्रैल में किया गया था। दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा जारी अधिसूचना में कहा गया है कि दिल्ली में विशेष न्यायाधीश, सीबीआई, भ्रष्टाचार निरोधक शाखा और श्रम अदालत के सभी न्यायालय राउज एवेन्यू कोर्ट परिसर से कार्य करेंगे।

INX मीडिया मामले के सिलसिले में 24 घंटे से अधिक समय तक छिपने के बाद चिदंबरम को सीबीआई ने बुधवार (21 अगस्त) रात गिरफ़्तार किया। मामला 2007 में INX मीडिया में विदेशी निवेश की अनुमति देने के फ़ैसले से संबंधित है।

दरअसल, CBI के अनुसार मार्च 2007 में INX मीडिया द्वारा विदेशी निवेश के लिए संवर्धन बोर्ड (FIPB) से अवैध तरीके से स्वीकृति प्राप्त की थी। INX मीडिया को शेयर जारी कर 46 फीसद इक्विटी जुटाने की स्वीकृति प्रदान की गई थी। इस मामले में इद्राणी मुखर्जी और उनके पति पीटर मुखर्जी को भी आरोपी बनाया गया था।

इंद्राणी मुखर्जी ने जाँच के दौरान CBI और ED को बताया कि FIPB स्वीकृति में हुए उल्लंघन को निपटाने के लिए तत्कालीन वित्तमंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम ने 10 लाख डॉलर की रिश्वत माँगी थी, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्ज में डूबा, 4 साल से एडमिशन नहीं: दामाद के परिवार का मेडिकल कॉलेज, दरियादिल हुई भूपेश बघेल सरकार

दामाद के परिवार से जुड़े मेडिकल कॉलेज पर सरकारी दरियादिली को लेकर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सवालों के घेरे में हैं।

मेडिकल कॉलेजों में OBC को 27%, EWS को 10% आरक्षण: MBBS में 56% और पीजी में 80% की वृद्धि – मोदी सरकार का ऐतिहासिक...

केंद्र सरकार द्वारा आरक्षण के फैसले को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि यह सामाजिक न्याय का नया प्रतिमान बनाने में मदद करेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,836FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe