Sunday, September 19, 2021
Homeराजनीतिफ्लोर टेस्ट से पहले ही इस्तीफा दे सकते हैं कमलनाथ! ​पढ़िए, सोनिया गाँधी की...

फ्लोर टेस्ट से पहले ही इस्तीफा दे सकते हैं कमलनाथ! ​पढ़िए, सोनिया गाँधी की दुहाई देती चिट्ठी

सोशल मीडिया पर एक चिट्ठी वायरल हो रही है। यह चिट्ठी दिग्विजय सिंह की लिखी है। इसमें वे एदल सिंह कंषाना से गिड़गिड़ाते हुए 10 मिनट की मुलाकात का समय माँग रखे हैं। साथ ही बता रहे हैं कि इससे सोनिया गाँधी बहुत दुखी और व्यथित हैं।

मध्यप्रदेश की सियासत बीते 10 दिन में कई करवट ले चुकी है। ताजा घटनाक्रम में विधानसभा स्पीकर ने कॉन्ग्रेस के बागी 16 विधायकों का इस्तीफा भी मँजूर कर लिया है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शुक्रवार (मार्च 20, 2020) दोपहर 12 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई है। कयास लगाए जा रहे हैं कि वे फ्लोर टेस्ट से पहले ही अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार पॉंच बजे तक विधानसभा में बहुमत परीक्षण के आदेश दिए थे।

कॉन्ग्रेस के 22 विधायकों ने 10 मार्च को इस्तीफा स्पीकर एन प्रजापति को सौंपा था। लेकिन, उन्होंने 6 इस्तीफे स्वीकार कर अन्य पर फैसला नहीं लिया था। कॉन्ग्रेस का कहना था कि बीजेपी ने इन विधायकों को बंधक बना रखा है और उन्होंने दबाव में इस्तीफा दिया है।

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार (मार्ट 19, 2020) को मध्य प्रदेश पर बड़ा फैसला सुनाते हुए कमलनाथ सरकार को फ्लोर टेस्ट कराने का आदेश दिया था। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि अगर बागी विधायक फ्लोर टेस्ट के लिए विधानसभा आने चाहते हैं तो कर्नाटक और मध्य प्रदेश के डीजीपी उनकी सुरक्षा सुनिश्चित कराए। साथ ही, सुप्रीम कोर्ट ने पूरी कार्यवाही की वीडियो रिकॉर्डिंग कराने को भी कहा है। कोर्ट ने आगे कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि विधानसभा का एकमात्र एजेंडा बहुमत साबित करने का होगा और किसी के लिए भी बाधा उत्पन्न नहीं की जानी चाहिए।

इस पर प्रतिक्रिया  देते हुए कमलनाथ ने कहा, “सुप्रीम कोर्ट के आदेश का व इसके हर पहलू का हम अध्ययन करेंगे, हमारे विधि विशेषज्ञों से चर्चा करेंगे, सलाह लेंगे, फिर उसके आधार पर निर्णय लेंगे।”

इससे पहले मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन ने कमलनाथ सरकार को विधानसभा में फ्लोर टेस्ट कराने को कहा था। हालाँकि, इसके बाद कोरोना वायरस का हवाला देते हुए स्पीकर ने सदन की कार्यवाही को 26 मार्च तक के लिए स्थगित कर दी थी। लेकिन, सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर के इस फैसले को पलटते हुए शुक्रवार को 5 बजे फ्लोट टेस्ट कराने का आदेश दिया है।

बता दें कि मध्य प्रदेश विधानसभा में कुल 230 सीटें हैं। 2 विधायकों का निधन हो चुका है। 22 विधायकों के इस्तीफे के बाद 206 विधायक बचे हैं। यानी सरकार को बहुमत साबित करने के लिए 104 विधायकों का समर्थन चाहिए। बीजेपी के पास अभी कुल 107 विधायक हैं। ऐसे में प्रदेश में सरकार गिरना तय माना जा रहा है। कहा जा रहा है कि सदन में किरकिरी से बचने के लिए कमलनाथ पहले ही इस्तीफा दे देंगे।

दिग्विजय सिंह द्वारा विधायक को लिखी चिट्ठी

वैसे कॉन्ग्रेस को पैरों तले जमीन खिसकने का अंदाजा पहले ही हो गया था। वह किसी तरह फ्लोर टेस्ट से बचना चाहती थी। कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह की एक चिट्ठी सामने आई है। इसमें उन्होंने सुमावली क्षेत्र के विधायक एदल सिंह कंषाना से गिड़गिड़ाते हुए 10 मिनट की मुलाकात का समय माँगा है। पत्र में कॉन्ग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गॉंधी का भी हवाला दिया गया है। दिग्विजय ने कहा है कि इससे सोनिया गाँधी बहुत दुखी और व्यथित हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काबुल के राष्ट्रपति भवन में लत्तम-जूत्तम: डिप्टी PM मुल्ला बरादर पर चले लात-घूसे, हक्कानी गुट ने तालिबान की बैंड बजाई

अफगानिस्तान के तालिबानी शासन में पड़ी फूट। उप-प्रधानमंत्री मुल्ला अब्दुल गनी बरादर को हक्कानी गुट के कमांडर ने लात-घूँसे से पीटा।

महिला IAS को अश्लील मैसेज: #MeToo आरोपित रहे हैं पंजाब के नए CM चन्नी, कैप्टेन पर फोड़ दिया था ठीकरा

चरणजीत सिंह चन्नी पर आरोप लगा था कि उन्होंने एक महिला आईएएस अधिकारी को 2018 में एक आपत्तिजनक मैसेज भेजा था। तब यह मामला खासा तूल पकड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,289FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe