Monday, September 27, 2021
Homeराजनीतिवोटिंग से पहले BJP बूथ कार्यकर्ता की हत्या, 2 अन्य को मारी गई गोली:...

वोटिंग से पहले BJP बूथ कार्यकर्ता की हत्या, 2 अन्य को मारी गई गोली: TMC पर आरोप

ऐसा पहली बार नहीं है कि टीएमसी के गुंडों ने खुलेआम अपनी गुंडागर्दी दिखाई हो, इससे पहले भी उनके हिंसा में शामिल होने की खबरें आती रही हैं। अभी तक के हर चरण में बंगाल से हिंसा की खबरें आई हैं।

पश्चिम बंगाल के झारग्राम जिले में शनिवार (मई 11, 2019) की रात भारतीय जनता पार्टी के एक कार्यकर्ता का शव मिला है। भाजपा कार्यकर्ता का नाम रमन सिंह है। रमन सिंह का शव मिलने के बाद इलाके में तनाव का माहौल बना हुआ है। भाजपा ने झारग्राम जिले के गोपीबल्लभपुर के बीजेपी बूथ एजेंट की हत्या का आरोप तृणमूल कॉन्ग्रेस (टीएमसी) पर लगाया है। भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय ने आरोप लगाया है कि टीएमसी कार्यकर्ताओं ने उनके घर में घुसकर हत्या की है।

वहीं, एक दूसरी घटना में राज्य के पूर्वी मिदनापुर, भगवानपुर में बीजेपी के दो कार्यकर्ता अनंत गुचैत और रणजीत मैती को रविवार (मई 12, 2019) की रात गोली मार दी गई। दोनों गंभीर रूप घायल हैं। दोनों कार्यकर्ताओं को जख्मी हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस इस मामले की खोजबीन कर रही है, लेकिन अभी तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है।

इसके साथ ही बंगाल की चर्चित पूर्व आईपीएस अधिकारी और घाटल लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी भारती घोष ने टीएमसी कार्यकर्ताओं पर उनके साथ बदतमीजी करने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि केशपुर में टीएमसी कार्यकर्ताओं ने उनके साथ बदसलूकी की है।

ऐसा पहली बार नहीं है कि टीएमसी के गुंडों ने खुलेआम अपनी गुंडागर्दी दिखाई हो, इससे पहले भी उनके हिंसा में शामिल होने की खबरें आती रही हैं। अभी तक के हर चरण में बंगाल से हिंसा की खबरें आई हैं। फिर चाहे वह कार्यकर्ताओं के बीच हाथापाई हो या फिर पोलिंग बूथ पर ही देसी बम से हमला किया जाना हो। यहाँ पर पाँचवें चरण के मतदान के दौरान बैरकपुर से भाजपा उम्मीदवार अर्जन सिंह पर टीएमसी के गुंडों ने हमला किया था, जिसमें उन्हें काफी चोटें आईं। वहीं चौथे चरण के चुनाव के दौरान आसनसोल से सांसद और बीजेपी उम्मीदवार पर टीएमसी समर्थकों ने हमला किया था, उनकी कार को तोड़ दिया गया था। पश्चिम बंगाल में आज 8 सीटों- झारग्राम, तमलुक, कंठी, घाटल, मिदनापुर, बाकुरा, बिश्नुपुर और पुर्लिया पर वोटिंग हो रही है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इंदिरा ने दी ‘पनाह’ और 37 से 12000 परिवार हो गए घुसपैठिए: असम में पुलिस पर हमले से पहले भी मिले थे कॉन्ग्रेसी, नेटिजन्स...

हिंसा से पहले के ऐसे वीडियो भी सामने आए, जिनमें कॉन्ग्रेस नेताओं को धौलपुर में अतिक्रमण वाले इलाके का दौरा और प्रदर्शन करते हुए देखा जा सकता है।

यूपी में बहुसंख्यकों पर बेअसर राहुल-प्रियंका, वोटों की आस ले मुस्लिमों की शरण में कॉन्ग्रेस: क्या बचेगी लाज

प्रश्न यह है कि कॉन्ग्रेस पार्टी के लिए उत्तर प्रदेश की सत्ता में वापसी के लिए उसकी यह रणनीति काफी होगी? ऐसा करने के साथ यही पार्टी बीजेपी पर यह आरोप लगाने की भी तैयारी कर रही होगी कि भाजपा चुनाव के मौके पर सांप्रदायिक राजनीति करती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,719FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe