‘मैं मध्य प्रदेश की धरती पर ‘लव जिहाद’ नहीं होने दूँगा, ये देश को तोड़ने का षड्यंत्र है’: CM शिवराज सिंह चौहान

शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो)

देश में लव जिहाद पर छिड़ी बहस के बीच मंगलवार (नवंबर 24, 2020) को उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने धर्म परिवर्तन से जुड़ा अध्यादेश पारित कर दिया है। देश के बाकी राज्यों में भी लव जिहाद पर कानून की माँग तेज होती जा रही है। इस बीच बुधवार (नवंबर 25, 2020) को मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने एक सभा में राज्य में लव जिहाद के कानून पर बड़ा बयान दिया।

उमरिया में जन-जातीय गौरव सम्मान समारोह में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लव-जिहाद के मुद्दे पर आक्रोश दिखाया है। उन्होने कड़े शब्दों में कहा, “मैं मध्यप्रदेश की धरती पर ‘लव जिहाद’ किसी भी कीमत पर नहीं चलने दूँगा। उसके लिए हम कानून बना रहे हैं। यह देश को तोड़ने का षड्यंत्र है, इसे किसी भी कीमत पर हम कामयाब नहीं होने देंगे।”

उन्होंने इस मौके पर कहा, “मेरे सामने ऐसे उदाहरण भी हैं कि शादी कर लो, पंचायत चुनााव लड़वा दो और फिर पंचायत के संसाधनों पर कब्जा कर लो। ऐसे लोगों से सावधान रहने की जरूरत है। मैं किसी भी कीमत पर मध्य प्रदेश की धरती पर लव जिहाद को कामयाब नहीं होने दूँगा।”

सीएम ने कहा, “मैं कोई कसर नहीं छोडूँगा परन्तु मैं आपसे चाहता हूँ कि ऐसे तत्व जो समाज को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं, चाहे वो धर्मांतरण के नाम पर, चाहे दूसरे नाम पर हों, कुछ लोग संगठन बनाकर उनकी आड़ में अपने स्वार्थों को पूरा करने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे लोगों को अलग-थलग कीजिए।”

वहीं, जन-जातीय गौरव सम्मान समारोह में उन्होंने कहा कि ये कार्यक्रम आखिरी बार नहीं हो रहा है, हर साल 15 नवंबर को भगवान बिरसा मुंडा का जन्मदिन जनजाति गौरव दिवस के नाम से धूमधाम से मनाया जाएगा।

बता दें कि प्रदेश में लव जिहाद के खिलाफ प्रस्तावित बिल का ड्राफ्ट तैयार करने की कवायद तेज हो गई है। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंत्रालय में अफसरों के साथ बैठक की है। वहीं, उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने लव जिहाद के खिलाफ 24 नवंबर को अध्यादेश पारित कर दिया है। जिसमें गैर जमानती धाराओं के तहत मामला दर्ज करने और 10 साल की कठोरतम सजा का प्रावधान है।

इसके अलावा बिहार में भी लव जिहाद को लेकर कानून बनाने की बात चल रही है। हाल ही में गिरिराज सिंह ने कहा था, “मेरा मानना है कि ‘लव जिहाद’ आज सामाजिक समरसता के लिए एक तरह से कैंसर हो गया है। अब कई राज्य इसके लिए कानून बनाने की मुहिम में लग गए हैं। बिहार को भी इसको सांप्रदायिकता का नाम न देकर सामाजिक समरसता के लिए लव जिहाद पर काम करने की जरूरत है।”

ऑपइंडिया स्टाफ़: कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया