Monday, August 2, 2021
Homeराजनीतिकमलनाथ राज में CAA समर्थकों के साथ मारपीट करने वाली दोनों महिला अधिकारियों पर...

कमलनाथ राज में CAA समर्थकों के साथ मारपीट करने वाली दोनों महिला अधिकारियों पर नहीं होगी FIR

“राजगढ़ की घटना ने सिद्ध किया है कि मध्य प्रदेश में अराजकता अब बर्दाश्त के बाहर हो गई है। मैं स्वयं, मेरे साथ पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय व नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव 22 जनवरी को कलेक्टर के खिलाफ FIR दर्ज कराने राजगढ़ जाएँगे।”

मध्य प्रदेश सरकार राजगढ़ की महिला कलेक्टर निधि निवेदिता और डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा के खिलाफ कोई FIR दर्ज नहीं करेगी। प्रदेश के कानून मंत्री पीसी शर्मा ने यह जानकारी दी है। रविवार (जनवरी 19, 2019) को राजगढ़ जिले में महिला कलेक्टर द्वारा भाजपा कार्यकर्ताओं की पिटाई के मामले में कॉन्ग्रेस ने राजनीति करनी शुरू कर दी है।

इस पूरे मामले का एक नया वीडियो सामने आया है, जिसमें भाजपा कार्यकर्ता हाथों में तिरंगा लेकर भारत माता की जय और वंदे मातरम का नारा लगा रहा है। वहीं, राजगढ़ की महिला कलेक्टर निधि निवेदिता उसे रोकने के लिए उसकी कमीज पकड़ कर उसे घसीट रही हैं। इससे पहले एक वीडियो सामने आया था जिसमें डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा ने प्रदर्शनकारियों के साथ हाथापाई शुरू कर दी थी। 

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के समर्थन में निकाली गई रैली में डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा पहुँची और प्रदर्शनकारियों को पीटना शुरू कर दिया। प्रिया वर्मा ने प्रदर्शनकारियों को वहाँ से हटने के लिए कहा। उन्होंने प्रदर्शनकारियों पर एक-दो थप्पड़ भी रसीद दिए, जिसके बाद वहाँ के हालात बदल गए। इसी दौरान किसी ने उनकी चोटी पकड़कर खींच दी। इस मामले में राजगढ़ पुलिस ने 650 लोगों के खिलाफ मामले दर्ज भी कर लिए हैं, लेकिन इन दोनों अधिकारियों के खिलाफ राज्य सरकार कोई एफआईआर नहीं करेगी।

पीसी शर्मा ने इंडिया टुडे से बात करते हुए कहा, “प्रदर्शनकारियों द्वारा हमला किए जाने के बाद दोनों अधिकारी खुद का बचाव कर रहे थे। महिलाओं को अपमानित करना भाजपा और आरएसएस की संस्कृति है। सरकार दोनों अधिकारियों के खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं करेगी।”

वहीं, इस मामले में मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर महिला अधिकारी की तारीफ की है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, “मध्य प्रदेश के राजगढ़ में भाजपा की गुण्डा गर्दी सामने आ गई। महिला जिला कलेक्टर और महिला एसडीएम अधिकारियों को पीटा गया बाल खींचे गए। महिला अधिकारीयों की बहादुरी पर हमें गर्व है।”

इधर, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कलेक्टर के खिलाफ राजगढ़ जाकर FIR दर्ज कराने की बात कही। उन्होंने ट्वीट किया, “राजगढ़ की घटना ने सिद्ध किया है कि मध्य प्रदेश में अराजकता अब बर्दाश्त के बाहर हो गई है। मैं स्वयं, मेरे साथ पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय व नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव 22 जनवरी को कलेक्टर के खिलाफ FIR दर्ज कराने राजगढ़ जाएँगे।”

नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने भी इस बाबत ट्वीट करते हुए लिखा, “22 जनवरी को कलेक्टर के खिलाफ FIR दर्ज कराने राजगढ़ जाएँगे। कमलनाथ सरकार बीजेपी सरकार के साथ ज्यादती कर रही है। उसे लगता है कि बीजेपी कार्यकर्ता डर के मारे आंदोलन करने बाहर नहीं निकलेगा। हमारा कार्यकर्ता डरने वाला नहीं है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इंडिया जीता… लेकिन सब गोल पंजाबी खिलाड़ियों ने किया: CM अमरिंदर सिंह के ट्वीट में भारत-पंजाब अलग-अलग क्यों?

पंजाब मुख्यमंत्री ने ट्वीट में कहा, ”इस बात को जानकर खुश हूँ कि सभी 3 गोल पंजाब के खिलाड़ी दिलप्रीत सिंह, गुरजंत सिंह और हार्दिक सिंह ने किए।”

शिव-पार्वती के होंठ वाला कवि, रोमिला थापर की बहू: MP की सरकारी समितियों में अब तक कॉन्ग्रेस के लोग, वामपंथी

मुख्यमंत्री बनते ही कमलनाथ ने मध्य प्रदेश की सरकारी समितियों को भंग कर उनमें कॉन्ग्रेस के विश्वस्तों को बिठाया था। अब भी वो लोग जमे हुए हैं। भाजपा को सत्ता में आए सवा साल हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,611FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe