Saturday, July 31, 2021
Homeराजनीतिउम्र 26 साल, 10 भाषाओं की जानकार: लंदन से आई सियासी दंगल की नई...

उम्र 26 साल, 10 भाषाओं की जानकार: लंदन से आई सियासी दंगल की नई पोस्टर गर्ल

नौक्षम चौधरी को भाजपा ने हरियाणा के पुन्हाना से मैदान में उतारा है। मौजूदा विधायक का टिकट काटकर उन्हें मौका दिया गया है। खुद को मेवात की बेटी बताने वाली नौक्षम के इस चुनाव में काफी चर्चे हैं।

हरियाणा विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है। भाजपा ने राज्य की ज्यादातर सीटों पर अपने प्रत्याशियों के नाम की घोषणा कर दी है। इसमें एक नाम नौक्षम चौधरी का भी है। नौक्षम को पुन्हाना विधानसभा सीट से टिकट दिया गया है। जिसके बाद उन्हें भाजपा की पोस्टर गर्ल कहकर बुलाया जा रहा है। बीजेपी ने मौजूदा विधायक रहीश खान का टिकट काटकर उन्हें उम्मीदवार बनाया है।

करीब एक माह पूर्व उन्होंने अपने गाँव पैमाखेड़ा में एक कार्यक्रम में भाजपा की ओर से चुनाव लड़ने की इच्छा जताई थी। लोगों का साथ मिला तो भाजपा ने उन्हें अपनी ओर से उम्मीदवार भी बना दिया।

नौक्षम लंदन में करोड़ों का पैकेज वाली नौकरी छोड़कर चुनाव लड़ने आई हैं। उनके पिता रिटायर्ड जज और माता आइएस हैं। उन्होंने तीन विषयों में एमए किया हुआ हैं। पहले उनकी स्नातकोत्तर दिल्ली यूनिवर्सिटी के मिरांडा हाउस से हुई और बाद में लंदन में रहने के दौरान उन्हें वहाँ काम करने और करियर बनाने के कई मौक़े मिले।

दस भाषाओं की ज्ञाता अपनी पढ़ाई के दौरान राजनीति में भी सक्रिय थी। जानकारी के मुताबिक वह छात्र संघ नेता भी रह चुकी हैं। शायद यही कारण हैं कि उन्होंने मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान कम समय में अच्छी-खासी भीड़ जुटाकर सबको हैरान कर दिया।

जानकारी के अनुसार 26 वर्षीय नौक्षम को लंदन में 3 वर्ष तक काम करने के बाद अपने देश की याद आई और उन्हें महसूस हुआ कि उनके घर, परिवार, राज्य को उन जैसे लोगों की जरूरत हैं। जिसके बाद उन्होंने भारत का रुख कर लिया। उन्होंने एक महीने पहले अगस्त के अंतिम सप्ताह में भाजपा की सदस्यता ली थी।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो नौक्षम का कहना है कि वे मेवात की बेटी हैं और उन्हें किसी भी गीदड़भभकी से डर नहीं लगता। उनकी मानें तो वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता से काफी प्रभावित हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ये नंगे, इनके हाथ अपराध में सने, फिर भी शर्म इन्हें आती नहीं… क्योंकि ये है बॉलीवुड

राज कुंद्रा या गहना वशिष्ठ तो बस नाम हैं। यहाँ किसिम किसिम के अपराध हैं। हिंदूफोबिया है। खुद के गुनाहों पर अजीब चुप्पी है।

‘द प्रिंट’ ने डाला वामपंथी सरकार की नाकामी पर पर्दा: यूपी-बिहार की तुलना में केरल-महाराष्ट्र को साबित किया कोविड प्रबंधन का ‘सुपर हीरो’

जॉन का दावा है कि केरल और महाराष्ट्र पर इसलिए सवाल उठाए जाते हैं, क्योंकि वे कोविड-19 मामलों का बेहतर तरीके से पता लगा रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,277FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe