Wednesday, August 4, 2021
Homeराजनीति'संजय राउत माफी माँगे या कार्रवाई के लिए तैयार रहें' - पिता की 2...

‘संजय राउत माफी माँगे या कार्रवाई के लिए तैयार रहें’ – पिता की 2 शादी मामले पर सुशांत के भाई की चेतावनी

"संजय राउत द्वारा किया गया यह दावा पूरी तरह फ़र्ज़ी है। अगर अपने इस बयान के लिए वह सुशांत सिंह राजपूत के परिवार से सार्वजनिक तौर पर माफ़ी नहीं माँगते हैं, तब सुशांत का परिवार उन पर न्यायिक कार्रवाई के लिए बाध्य होगा।"

सुशांत सिंह राजपूत की कथित तौर पर आत्महत्या के मामले में नए तथ्य और दावे लगातार सामने आ रहे हैं। बीते दिन शिवसेना सांसद संजय राउत ने सुशांत सिंह राजपूत के पिता को लेकर एक बयान दिया। जिसमें उन्होंने कहा कि सुशांत के पिता ने दो शादियाँ की हैं। इस पर सुशांत के भाई नीरज बबलू ने आज (10 अगस्त 2020) अपना पक्ष रखा। उन्होंने अपनी बात रखते हुए कहा कि संजय राउत को इस बेबुनियाद बयान के लिए माफ़ी माँगनी चाहिए।   

नीरज ने कहा, “संजय राउत द्वारा किया गया यह दावा पूरी तरह फ़र्ज़ी है। उन्होंने कोई दूसरी शादी नहीं की है। अगर अपने इस बयान के लिए वह सुशांत सिंह राजपूत के परिवार से सार्वजनिक तौर पर माफ़ी नहीं माँगते हैं, तब सुशांत का परिवार उन पर न्यायिक कार्रवाई के लिए बाध्य होगा।”

इतना ही नहीं संजय राउत शुरुआत से ही इस मामले की सीबीआई जाँच के खिलाफ़ थे। अब उनका दावा है कि सुशांत के पिता ने दूसरी शादी की थी और इसकी वजह से सुशांत और उनके पिता के बीच संबंध अच्छे नहीं थे। संजय राउत ने तो इस बारे में सवाल तक किया था, “वह (सुशांत) अपने पिता से कितनी बार मिले थे?”

सुशांत सिंह राजपूत के भाई नीरज बबलू, चित्र साभार – डेक्कन क्रोनिकल

शिवसेना सांसद ने आरोप लगाया कि बिहार सरकार की सिफारिश के बाद 1 ही दिन में सीबीआई जाँच के लिए स्वीकृति दे दी गई, जो बताता है कि सीबीआई और ईडी जैसी एजेंसियों का राजनीति के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है और यह झकझोर देने वाला है।

राउत ने इसे राज्य सरकार की स्वायत्तता पर हमला करार दिया। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि अगर ये मामला मुंबई पुलिस के हाथ में रहता तो इससे आसमान नहीं टूट पड़ता। लेकिन इस मामले में राजनीतिक दबाव और रुचि के कारण इसे सीबीआई को दिया गया है। 

उन्होंने आरोप लगया कि इस मामले की पटकथा पहले ही लिख ली गई थी और परदे के पीछे कुछ भी हुआ हो सकता है ताकि महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ साजिश रची जाए। उन्होंने मुंबई पुलिस को दुनिया की सर्वोच्च जाँच तंत्र बताते हुए कहा कि वो प्रोफेशनल हैं और दबाव में नहीं आते।

संजय राउत का यह भी कहना है कि इस मामले में सिर्फ राजनीतिक षड्यंत्र रचे जा रहे हैं, जिसके चलते सच सामने न आ पाए। उनका पूछना है, “जब मुंबई पुलिस इस मामले की जाँच कर रही थी तब यह मामला उससे वापस क्यों ले लिया गया?”

उन्होंने शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में प्रकाशित होने वाले अपने साप्ताहिक स्तंभ में यह भी लिखा कि जब घटना मुंबई में हुई है, तब उसकी प्राथमिकी पटना में कैसे दर्ज की गई। सुशांत सिंह के परिवार ने इस मामले में पूरे 40 दिन बाद कानूनी सहारा लिया था।   

इसके पहले सुशांत के मामा आरसी सिंह ने भी संजय राउत के दावों को सिरे से खारिज किया था। एनबीटी के मुताबिक सुशांत के पिता ने दो शादियॉं नहीं की हैं। आरसी सिंह ने कहा, “बिहार में रहने वाले जानते हैं कि सुशांत के पिता ने एक ही शादी की है। संजय राउत झूठ बोल रहे हैं।”

आरसी सिंह ने कहा, “संजय राउत ने उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे के इशारे पर गलत बयान दिया है। संजय राउत इस तरह की बात बोलकर उनकी छवि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसी बात बोलकर किसी की छवि खराब करना क्या अच्छी बात है?”

वहीं कॉन्ग्रेस नेता संजय निरुपम ने भी राउत के इन दावों पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि दिवंगत अभिनेता के परिवार पर ऐसे निचले स्तर की टिप्पणी करना सही नहीं है। हालाँकि इस दौरान उन्होंने किसी नेता का नाम लेकर उसकी आलोचना नहीं की। इसके अलावा संजय निरुपम ने यह कहा कि सुशांत सिंह की कथित तौर पर आत्महत्या का मामला संवेदनशील है। इस पूरे मामले की जाँच संवेदनशीलता से होनी चाहिए। ऐसे बयानों का केवल नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।   

वहीं दूसरी तरफ आज सुबह रिया चक्रवर्ती और उनके भाई प्रवर्तन निदेशालय में पूछताछ के लिए पेश हुए थे। सुशांत सिंह की कथित तौर पर आत्महत्या के मामले में दोनों मनी लॉन्ड्रिंग के तहत आरोपित हैं। दोनों के साथ शुक्रवार और शनिवार के दिन भी पूछताछ का लंबा दौर चला था। इसके अलावा रिया चक्रवर्ती की प्रबंधक श्रुति मोदी से भी इस मामले में पूछताछ जारी है।                

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘धर्म में मेरा भरोसा, कर्म के अनुसार चाहता हूँ परिणाम’: कोरोना से लेकर जनसंख्या नियंत्रण तक, सब पर बोले CM योगी

सपा-बसपा को समाजिक सौहार्द्र के बारे में बात करने का कोई अधिकार नहीं है क्योंकि उनका इतिहास ही सामाजिक द्वेष फैलाने का रहा है।

ईसाई बने तो नहीं ले सकते SC वर्ग के लिए चलाई जा रही केंद्र की योजनाओं का फायदा: संसद में मोदी सरकार

रिपोर्ट्स बताती हैं कि आंध्र प्रदेश में ईसाई धर्म में कन्वर्ट होने वाले 80 प्रतिशत लोग SC वर्ग से आते हैं, जो सभी तरह की योजनाओं का लाभ उठाते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,945FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe