कपिल सिब्बल और ‘पत्रकारों को Bitch कहने वाली’ उनकी पत्नी कोर्ट में तलब, बरखा दत्त ने किया है केस

मामला तिरंगा टीवी से जुड़ा हुआ है। बरखा दत्त ने बताया था कि सिब्बल की पत्नी द्वारा चलाए जा रहे इस चैनल में भयावह हालात हैं। उनका कहना था कि जनता के बीच में खुद को बिलकुल साफ़ दिखाने वाला व्यक्ति पत्रकारों के साथ घिनौना बर्ताव कर रहा है।

पत्रकार बरखा दत्त ने तिरंगा टीवी के प्रमोटर्स कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल और उनकी पत्नी प्रोमिला सिब्बल के ख़िलाफ़ सिविल सूट दायर किया है। इस मामले में दोनों पति-पत्नी को समन जारी किया गया है। बरखा दत्त की तरफ से पटियाला हाउस कोर्ट में वकील राघव अवस्थी पेश हुए। उन्होंने सिब्बल दम्पति को समन जारी किए जाने का स्वागत किया। उन्होंने उम्मीद जताई कि यह तो बस एक शुरुआत है और आगे इस केस में उन्हें और भी सफलता मिलने वाली है। अवस्थी ने एक ट्वीट के माध्यम से यह जानकारी साझा की।

बरखा दत्त ने कहा कि यह सिद्धांतों की लड़ाई है। उन्होंने वकील राघव अवस्थी को धन्यवाद दिया और कहा कि अब गेंद कोर्ट के पाले में है। इससे पहले बरखा दत्त ने तिरंगा टीवी पर आरोप लगाया था कि तिरंगा टीवी के सभी कर्मचारियों को बिना किसी पूर्व-सूचना के और बिना कम्पनशेटरी सैलरी दिए निकाल बाहर किया गया।

बरखा दत्त ने पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल को निशाना बनाते हुए लिखा था कि वे और उनकी पत्नी द्वारा चलाए जा रहे तिरंगा टीवी में भयावह स्थिति है। उन्होंने बताया था कि चैनल द्वारा 200 से ज्यादा कर्मचारियों को बिना 6 महीने की सैलरी दिए निकाल दिया गया है। उनका कॉन्ग्रेस नेता कपिल सिब्बल को लेकर कहना था कि एक व्यक्ति जो जनता के बीच में खुद को बिलकुल साफ़ दिखाता है, वो पत्रकारों के साथ घिनौना बर्ताव कर रहा है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

कपिल सिब्बल की पत्नी के रवैए को बरखा ने आधार बनाकर कहा था कि मीट फैक्टरी चलाने वाली प्रोमिला सिब्बल तिरंगा TV के ऑफिस में चिल्लाकर कहती थीं कि उन्होंने मजदूरों को एक पैसा दिए बिना फैक्टरी बंद कर दी थी तो ये पत्रकार कौन होते हैं 6 महीने की सैलरी माँगने वाले! बरखा ने आरोप लगाया था कि कपिल सिब्बल की पत्नी महिला कर्मचारियों को “बिच (Bitch या कुतिया)” कह कर बुलाती थीं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बीएचयू, वीर सावरकर
वीर सावरकर की फोटो को दीवार से उखाड़ कर पहली बेंच पर पटक दिया गया था। फोटो पर स्याही लगी हुई थी। इसके बाद छात्र आक्रोशित हो उठे और धरने पर बैठ गए। छात्रों के आक्रोश को देख कर एचओडी वहाँ पर पहुँचे। उन्होंने तीन सदस्यीय कमिटी गठित कर जाँच का आश्वासन दिया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,579फैंसलाइक करें
23,213फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: