Monday, August 2, 2021
Homeराजनीति'हिम्मत है तो मुंबई की फिल्म इंडस्ट्री को यूपी ले जाकर दिखाओ': उद्धव ठाकरे...

‘हिम्मत है तो मुंबई की फिल्म इंडस्ट्री को यूपी ले जाकर दिखाओ’: उद्धव ठाकरे की गीदड़-भभकी का राजू श्रीवास्तव ने दिया जवाब

कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव ने उद्धव ठाकरे को करारा जवाब देते हुए कहा कि यूपी में फिल्म सिटी के निर्माण का काम मुकाबले के लिए नहीं, बल्कि रोजगार उपलब्ध कराने के लिए किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने रोजगार की संभावनाओं को तलाशते हुए फिल्म सिटी का खाका तैयार किया है।

उत्तर प्रदेश के नोएडा में बन रही फिल्म सिटी को लेकर अब महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे बौखला गए हैं। उन्होंने चुनौती देते हुए कहा है कि अगर हिम्मत है तो फिल्म इंडस्ट्री को मुंबई से उत्तर प्रदेश ले जाकर दिखाएँ। उन्होंने आक्रामक अंदाज़ में कहा कि जिस भूमि पर दादा साहब फाल्के ने फिल्म निर्माण की शुरुआत की थी, उस जगह पर वो किसी भी प्रकार की कमी नहीं होने देंगे। नोएडा में फिल्म सिटी बनने के फैसले के साथ ही भाजपा और शिवसेना सामने-सामने हैं।

एबीपी न्यूज़ की खबर के अनुसार, यूपी में फिल्म सिटी को लेकर बोलते हुए सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि बॉलीवुड इंडस्ट्री में कई सारी समस्याएँ और परेशानियाँ हैं, जिन्हें दूर करने का काम उनकी सरकार करेगी। उन्होंने कहा कि बॉलीवुड इंडस्ट्री को जो भी सुविधाएँ चाहिए होंगी, वो उन्हें मुहैया करवाया जाएगा। उन्होंने महाराष्ट्र में सबसे अच्छी गुणवत्ता वाले फिल्मों के निर्माण की बात करते हुए यूपी में बनने वाली फिल्म सिटी पर तंज कसा। उन्होंने कहा:

“सबसे अच्छी गुणवत्ता के फिल्मों के निर्माण के लिए लिए आपको प्रौद्योगिकी और स्थान की आवश्यकता पड़ेगी। इसे ध्यान में रखते हुए एक कार्य योजना तैयार की जाए। फिल्म इंडस्ट्री अपनी प्राथमिकताएँ निर्धारित करें और हम इसे पूरा करेंगे। आज साउंड-मिक्सिंग के लिए लोग लंदन जाते हैं। हमारे पास मुंबई में संसाधन व सुविधाएँ क्यों नहीं हो सकतीं? हम अधिक लोगों तक पहुँच के लिए राज्य में ऐसे थिएटर और सिनेमा घर स्थापित करने के लिए भी काम करेंगे, जहाँ लोगों का ज्यादा खर्च न हो।”

उद्धव ठाकरे ने ऐलान किया कि सरकार जल्द ही फिल्म और मनोरंजन उद्योग के सभी हितधारकों के साथ मिलकर मेगा-सुविधाओं को सुनिश्चित करने के लिए मिलकर काम करेगी और इस उद्देश्य के लिए उपयुक्त स्थान की तलाश करेगी। इससे पहले शिवसेना मुखपत्र ‘सामना’ में भी ‘मुंबई की फिल्म इंडस्ट्री को नोएडा शिफ्ट करने के षड्यंत्र’ को लेकर आरोप लगाए गए थे। उसने मुंबई को देश की आर्थिक के साथ-साथ सांस्कृतिक राजधानी भी करार दिया था।

कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव ने उद्धव ठाकरे को करारा जवाब देते हुए कहा कि यूपी में फिल्म सिटी के निर्माण का काम मुकाबले के लिए नहीं, बल्कि रोजगार उपलब्ध कराने के लिए किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने रोजगार की संभावनाओं को तलाशते हुए फिल्म सिटी का खाका तैयार किया है। उन्होंने कहा कि काशी विश्वनाथ और गंगाघाट का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि यूपी में बड़े कलाकार पहले से शूटिंग करते आ रहे हैं और क्योंकि यहाँ धार्मिक और रमणीय स्थलों की संख्या अच्छी खासी है।

‘न्यूज़ 18’ की कुमारी रंजना से बात करते हुए राजू श्रीवास्तव ने कहा कि रोजगार के लिए चिंतित मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हर विभाग को खँगाल रहे हैं, जहाँ सम्भावनाएँ हों और रोजगार उपलब्ध कराया जा सके, और इसी के तहत फिल्म सिटी का निर्माण हो रहा है। उन्होंने कहा कि यूपी में फिल्म स्टूडियो हो या रियल लोकेशन्स हों, जहाँ मराठी फिल्में भी बनें, अंग्रेजी फिल्में भी बने और दूसरी भाषाओं की फिल्मों का भी निर्माण हो।

बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कम से कम समय में उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं और इसके लिए 1000 एकड़ की भूमि की व्यवस्था किए जाने की बात भी कही गई है। सीएम योगी ने स्पष्ट किया है कि ये फिल्म सिटी अंतरराष्ट्रीय स्तर का होगा। इसके लिए पूरी योजना तैयार कर ली गई है। कुछ दिनों पहले बड़ी फ़िल्मी हस्तियों के साथ बैठक में उपस्थित लोगों को नक्शों और डायग्राम्स के जरिए इसका पूरा ब्लूप्रिंट दिखाया गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दविंदर सिंह के विरुद्ध जाँच की जरूरत नहीं…मोदी सरकार क्या छिपा रही’: सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ कई कॉन्ग्रेसियों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ने सोशल मीडिया पर दावा किया। लेकिन इनमें से किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि अनुच्छेद 311 क्या है।

ममता से मिले राजदीप तो आया मौसम रसगुल्ला का, राजनीति में अब लड्डू का हाल भी राहुल गाँधी जैसा

राजदीप सरदेसाई ने रसगुल्ले को राजनीति और पत्रकारिता के मध्य में रख दिया है। राजनीति इसे खिलाकर कठिन सवालों को रोकेगी और पत्रकारिता इसे खाकर।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,620FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe