देवबंद में 5 दिन में 2 भाजपा नेता की हत्या, बाइक सवार हमलावरों ने पिछड़ा प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष को मारी गोली

देवबंद में दूसरे भाजपा नेता की हत्या से पुलिस प्रशासन सकते में आ गई है। इससे पहले 8 अक्टूबर को भी कुछ बदमाशों ने भाजपा किसान मोर्चा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष यशपाल की गोली मार हत्या कर दी थी।

उत्तरप्रदेश के सहारनपुर जिले के मुस्लिम बहुल इलाके देवबंद में आज (अक्टूबर 12, 2019) सुबह भाजपा सभासद चौधरी धारा सिंह पर बाइक सवार कुछ बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। गोली लगने से जख्मी हुए भाजपा नेता को आनन-फानन में सीएचसी भर्ती कराया गया, लेकिन उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। वारदात की खबर मिलते ही पुलिस मौक़े पर पहुँची। पुलिस अपराधियों को पकड़ने के लिए नाकेबंदी कर रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार भाजपा पिछड़ा प्रकोष्ठ के जिला उपाध्यक्ष और देवबंद नगर पालिका के सभासद चौधरी धारा सिंह आज सुबह मौला कष्ट स्थित अपने घर से त्रिवेणी शुगर मिल में ड्यूटी के लिए जा रहे थे। तभी, रणखंडी फाटक के समीप पीछे से आए चार हमलावरों ने उनपर ताबड़तोड़ फायरिंग की। इस दौरान एक गोली उनके सिर में जा लगी। जिससे उनकी मौत हो गई।

भाजपा नेता पर दिनदहाड़े हुए इस हमले की खबर सुनते ही नगर अध्यक्ष गजराज सिंह राणा समेत पार्टी के सैकड़ों समर्थक मौक़े पर एकत्रित हुए और हंगामा शुरू कर दिया। उल्लेखनीय है कि एक हफ्ते के भीतर देवबंद में दूसरे भाजपा नेता की हत्या से पुलिस प्रशासन सकते में आ गई है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

जिले के एसपी दिनेश कुमार ने मामले को क्राइम ब्रांच के पास भेजा है। लेकिन फिलहाल, हत्या के कारणों का मालूम नहीं चल सका है। एसपी दिनेश ने बताया, ” 47 वर्षीय धारा सिंह, देवबंद में सभासद थे। उन्हें आज सुबह 8 बजे के आसपास अज्ञात बदमाशों के द्वारा रणखंडी फाटक पर गोली मारकर हत्या कर दी गई। बॉडी को पोस्टमार्टम के लिए सहारनपुर मॉर्चरी भेजा गया। मृतक के परिवार वालों से बात की जा रही है। साथ ही हमले की वजह और दुश्मनी के संबंध में जाँच जारी है। “

इससे पहले बता दें 8 अक्टूबर को भी कुछ बदमाशों ने भाजपा किसान मोर्चा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष यशपाल की गोली मार हत्या कर दी थी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सोनिया गाँधी
शिवसेना हिन्दुत्व के एजेंडे से पीछे हटने को तैयार है फिर भी सोनिया दुविधा में हैं। शिवसेना को समर्थन पर कॉन्ग्रेस के भीतर भी मतभेद है। ऐसे में एनसीपी सुप्रीमो के साथ उनकी आज की बैठक निर्णायक साबित हो सकती है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,489फैंसलाइक करें
23,092फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: