चर्च स्कूल के बच्चों ने कहा जय श्री राम, 12वीं के 17 बच्चों के स्कूल आने पर पाबंदी

खेल-खेल में नारे लगाने वाले बच्चों को पॉंच दिनों के लिए निलंबित किया गया है। अक्टूबर में इन बच्चों की परीक्षा होनी है। मामला झारखंड के जमशेदपुर का है। जिला शिक्षा पदाधिकारी तक पहुॅंची शिकायत।

झारखंड के जमशेदपुर जिले के बिष्टुपुर स्थित बेल्डीह चर्च स्कूल ने मंगलवार (सितंबर 24, 2019) को खेल-खेल में जय श्री राम का नारा लगाने पर 17 छात्रों को स्कूल से निलंबित कर दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, निलंबित बच्चे कक्षा 12वीं के छात्र हैं। जो खेल-खेल में स्कूल परिसर में जय श्री राम का नारा लगा रहे थे। इसकी सूचना प्रिंसिपल एल पीटरसन को मिलते ही स्कूल में अनुशासन समिति की बैठक बुलवाई गई।

दैनिक जागरण में प्रकाशित पूरे मामले की खबर

बैठक के दौरान बच्चों के इस खेल को अनुशासनहीनता करार देते हुए नारा लगाने वाले 17 बच्चों को 5 दिनों के लिए सस्पेंड कर दिया गया। स्कूल प्रशासन ने इन सभी छात्रों को 5 दिन तक स्कूल नहीं आने का आदेश दिया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

दूसरी ओर, मामले की सूचना प्राप्त होते ही शिक्षा सत्याग्रह के संस्थापक सह भाजपा जिला प्रवक्ता अंकिता आनंद और आजसू नेता अप्पू तिवारी ने जिला शिक्षा पदाधिकारी से मामले की शिकायत की है।

दोनों ने इस मामले को समाज की धार्मिक भावना से जुड़ा मसला बताया। इन्होंने अपनी शिकायत में जय श्रीराम का नारा लगाने पर हुई कार्रवाई को अनुचित ठहराया। साथ ही स्कूल के ख़िलाफ़ एक्शन लेने की माँग की।

बता दें कि इस मामले के संबंध में स्कूल प्रिंसिपल ने परिसर में हुई घटनाओं का हवाला देकर बच्चों के निलंबन को सही ठहराने की कोशिश की।

हिन्दुस्तान की रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने कहा, “स्कूल परिसर में इसी प्रकार नारे लगाने की घटना को लेकर पूर्व में भी एमएनपीएस स्कूल में विवाद हो चुका है। हम अपने स्कूल में कोई विवाद नहीं चाहते। बच्चों को अनुशासन में रखने के लिए ही उन्हें पांच दिनों के स्टडी लीव पर भेजा गया है। वैसे भी उनकी परीक्षा एक अक्टूबर से है। “

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: