Thursday, September 16, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाश्रीनगर में डोवाल: पूरे शहर का लिया जायज़ा, देखे बकरीद के इंतज़ाम

श्रीनगर में डोवाल: पूरे शहर का लिया जायज़ा, देखे बकरीद के इंतज़ाम

अजीत डोवाल पिछले कुछ दिनों से जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा के लिहाज से संवेदनशील हिस्से का एक-एक कर दौरा कर रहे हैं। पिछले दिनों उन्होंने शोपियाँ और अंनतनाग का दौरा किया था।

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोवाल ने बकरीद के मौके पर जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में डेरा डाल रखा है। NSA ने शहर के सभी महत्वपूर्ण इलाकों के अलावा सुरक्षा के लिहाज से महत्वपूर्ण जिलों पांपोर, बड़गाम, और दक्षिण कश्मीर के पुलवामा और अवंतीपोरा का भी दौरा किया।

अजीत डोवाल पिछले कुछ दिनों से जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा के लिहाज से संवेदनशील हिस्से का एक-एक कर दौरा कर रहे हैं। पिछले दिनों उन्होंने शोपियाँ और अंनतनाग का दौरा किया था। इसी शृंखला में वह फ़िलहाल श्रीनगर में हैं। वहाँ उन्होंने मुख्य कमर्शियल/बाज़ार इलाके के अलावा सौरा, लाल चौक, हज़रतबल आदि महत्वपूर्ण इलाकों में रेकी की।

इसके पहले डोवाल घाटी में जिहाद के गढ़ माने जाने वाले अनंतनाग पहुँचे थे और सुरक्षा व्यवस्था का जायज़ा लेने के साथ-साथ स्थानीय लोगों से बातचीत की थी। राज्यसभा से जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल पास होने के अगले ही दिन यानी 6 अगस्त को जम्मू-कश्मीर पहुँचे डोवाल इसके बाद से ही राज्य में डेरा डालकर सुरक्षा प्रबंधों पर निगाह रखे हुए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राचीन महादेवम्मा मंदिर विध्वंस मामले में मैसूर SP को विहिप नेता ने लिखा पत्र, DC और तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई की माँग

विहिप के नेता गिरीश भारद्वाज ने मैसूर के उपायुक्त और नंजनगुडु के तहसीलदार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए SP के पास शिकायत दर्ज कराई है।

कोहाट दंगे: खिलाफ़त आंदोलन के लिए हुई ‘डील’ ने कैसे करवाया था हिंदुओं का सफाया? 3000 का हुआ था पलायन

10 सितंबर 1924 को करीबन 4000 की मुस्लिम भीड़ ने 3000 हिंदुओं को इतना मजबूर कर दिया कि उन्हें भाग कर मंदिर में शरण लेनी पड़ी। जो पीछे छूटे उन्हें मार डाला गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,733FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe