दुर्गा मूर्ति का सर तोड़ा, क्षत-विक्षत कर तालाब में फेंका: बंगाल में आरोपित युवक गिरफ्तार

पश्चिम बंगाल के केतुग्राम स्थित श्रीरामपुर गाँव में लोगों ने दशमी के अगले दिन पाया कि सरकारबाड़ी मन्दिर के ‘पूजो मंडप’ में प्रतिष्ठित दुर्गा मूर्ति का सर गायब है। साथ ही कुछ गहने भी नहीं हैं। बाद में मूर्ति का क्षत-विक्षत सर घर के पीछे एक तालाब में मिला।

दुर्गा पूजा के सांस्कृतिक महत्व के साथ-साथ उसकी भव्यता के लिए प्रख्यात पश्चिम बंगाल से दुर्गा मूर्ति की बुरी खबर आ रही है। स्थानीय मीडिया के मुताबिक राज्य के केतुग्राम स्थित श्रीरामपुर गाँव में लोगों ने दशमी के अगले दिन (9 अक्तूबर, 2019) उठ कर पाया कि सरकारबाड़ी मन्दिर के ‘पूजो मंडप’ में प्रतिष्ठित दुर्गा मूर्ति का सर गायब है। साथ ही कुछ गहने भी नहीं हैं। बाद में मूर्ति का क्षत-विक्षत सर घर के पीछे एक तालाब में मिला

आरोपित युवक गिरफ्तार

इस घटना से उत्तेजित हुए ग्रामीणों ने केतुग्राम थाने में मामले की रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ने मामले में शक के आधार पर एक युवक को गिरफ्त में ले लिया है। लोगों के मुताबिक हमलावरों ने सरकारबाड़ी मन्दिर के पास खाली जगह में बनी काली ठाकुर बेदी को भी क्षतिग्रस्त कर दिया गया है।

हालाँकि सरकारबाड़ी मन्दिर कहने को गाँव के सरकार परिवार का है, लेकिन पिछले 300 सालों से सभी ग्रामीण सरकारबाड़ी मन्दिर के ‘दुर्गा पूजो’ में शरीक होते हैं। मंगलवार रात को पूजो खत्म होने के बाद मन्दिर का दरवाज़ा बंद किया गया था, लेकिन सुबह यहाँ की खिड़की टूटी मिली।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

सरकार परिवार के प्रतुल सरकार ने स्थानीय मीडिया को बताया कि बारिश के चलते प्रतिमा का विसर्जन नहीं हो पाया था। इस कारण से बुधवार दोपहर को विसर्जन की विधि संपन्न की गई।

(खबर लिखे जाने तक इस घटना को किसी अंग्रेजी या हिंदी मीडिया के कवर करने की ऑपइंडिया को जानकारी नहीं है। हम यह खबर केवल स्थानीय बांग्ला मीडिया की कवरेज के अनुवाद के आधार पर लिख रहे हैं।)

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

नितिन गडकरी
गडकरी का यह बयान शिवसेना विधायक दल में बगावत की खबरों के बीच आया है। हालॉंकि शिवसेना का कहना है कि एनसीपी और कॉन्ग्रेस के साथ मिलकर सरकार चलाने के लिए उसने कॉमन मिनिमम प्रोग्राम का ड्राफ्ट तैयार कर लिया है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

113,017फैंसलाइक करें
22,546फॉलोवर्सफॉलो करें
118,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: