Friday, September 17, 2021
Homeविविध विषयअन्यVideo: 11.32 सेकंड में दूती चंद ने गोल्ड जीतकर रचा इतिहास, बनीं देश की...

Video: 11.32 सेकंड में दूती चंद ने गोल्ड जीतकर रचा इतिहास, बनीं देश की पहली महिला एथलीट

दूती इस उपलब्धि को हासिल करने वाली देश की पहली महिला एथलीट हैं। जीत के बाद अपने ट्विटर हैंडल से उन्होंने लिखा, “मुझे नीचे गिराने की कोशिश करो, लेकिन मैं मज़बूती से वापसी करुँगी।”

भारतीय धाविका दूती चंद ने इटली के नेपल्स में 30वें वर्ल्ड यूनिवर्सिटी गेम्स (30वाँ समर यूनिवर्सियाड) की 100 मीटर प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया। इस उपलब्धि को हासिल करने वाली वो देश की पहली महिला एथलीट हैं।

23 साल की दूती मात्र 11.32 सेकंड में रेस पूरी कर पहले पायदान पर रहीं। उनके नाम 100 मीटर में 11.24 सेकंड का राष्ट्रीय रिकॉर्ड भी दर्ज है। अपने ट्विटर हैंडल से उन्होंने लिखा, “मुझे नीचे गिराने की कोशिश करो, लेकिन मैं मज़बूती से वापसी करुँगी।”  

खेल मंत्री किरण रिजीजू ने दूती को बधाई देते हुए ट्वीट किया और लिखा, “मैं बचपन से इन खेलों में गोल्ड जीतने का इंतज़ार कर रहा हूँ। आख़िरकार भारत को गोल्ड मेडल मिला। दूती को विश्व यूनिवर्सिटी खेलों में गोल्ड जीतने पर बधाई।” इसके साथ ही उन्होंने गोल्ड मेडल की इस जीत वाली वीडियो को भी शेयर किया।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दूती को बधाई देते हुए ट्वीट किया और लिखा, “यूनिवर्सिटी खेलों में 100 मीटर फर्राटा जीतने पर दूती को बधाई। यह भारत का इन खेलों में पहला स्वर्ण है और हम बहुत गौरवान्वित हैं। इस प्रदर्शन को ओलंंपिक में क़ायम रखें।”

भारतीय धाविका दूती के गोल्ड मेडल जीतने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बधाई दी। उन्होंने ट्वीट किया, “एक असाधारण एथलीट की असाधारण उपलब्धि! अपनी कड़ी मेहनत की बदौलत जीत हासिल करने के लिए बधाई दूती चंद… आप इसकी सही हक़दार हैं। आपने भारत को गौरवान्वित किया है।” 

स्विट्जरलैंड की डेल पोंटे 11.33 सेकंड के साथ दूसरे और जर्मनी के लीसा क्वायी 11.39 सेकंड के साथ कांस्य पदक जीतने में सफल रहीं।

पिछले साल, भारतीय स्प्रिंटर हेमा दास ने विश्व जूनियर एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में 400 मीटर में स्वर्ण पदक जीता था। दूती का अपना निजी राष्ट्रीय रिकॉर्ड 11.24 सेकंड है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राचीन महादेवम्मा मंदिर विध्वंस मामले में मैसूर SP को विहिप नेता ने लिखा पत्र, DC और तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई की माँग

विहिप के नेता गिरीश भारद्वाज ने मैसूर के उपायुक्त और नंजनगुडु के तहसीलदार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए SP के पास शिकायत दर्ज कराई है।

कोहाट दंगे: खिलाफ़त आंदोलन के लिए हुई ‘डील’ ने कैसे करवाया था हिंदुओं का सफाया? 3000 का हुआ था पलायन

10 सितंबर 1924 को करीबन 4000 की मुस्लिम भीड़ ने 3000 हिंदुओं को इतना मजबूर कर दिया कि उन्हें भाग कर मंदिर में शरण लेनी पड़ी। जो पीछे छूटे उन्हें मार डाला गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,761FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe