Wednesday, September 22, 2021
Homeविविध विषयअन्यकार्ति चिदंबरम को घर खाली करने के लिए ED ने थमाया नोटिस, पिछले साल...

कार्ति चिदंबरम को घर खाली करने के लिए ED ने थमाया नोटिस, पिछले साल हुई थी कुर्क

इससे पहले ईडी ने गत वर्ष 10 अक्टूबर को नई दिल्ली जोरबाग स्थित 115-ए ब्लॉक 172 की संपत्ति कुर्क की थी। इस कुर्क की पुष्टि 29 मार्च को की गई थी, जिसका जिक्र ED द्वारा जारी किए गए नोटिस में भी है।

पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति को ED ने नोटिस जारी करके उनके दिल्ली के जोर बाग स्थित घर को खाली करने का निर्देश दिया है। जानकारी के मुताबिक प्रवर्तन निदेशायल ने उनके इस आवास को भ्रष्टाचार से संबंधित मामले में पिछले साल कुर्क भी किया था। वह आईएनएक्स मामले के दोषी हैं।

मनीलॉन्ड्रिंग रोकथाम कानून के तहत दिए गए एक पूर्व आदेश पर अमल करते हुए कार्ति चिदंबरम को ईडी द्वारा बुधवार (जुलाई 31, 2019) को यह नोटिस जारी किया गया है। इससे पहले ईडी ने गत वर्ष 10 अक्टूबर को नई दिल्ली जोरबाग स्थित 115-ए ब्लॉक 172 की संपत्ति कुर्क की थी। इस कुर्क की पुष्टि 29 मार्च को की गई थी, जिसका जिक्र ED द्वारा जारी किए गए नोटिस में भी है।

गौरतलब है ये मामला साल 2007 में आईएनएक्स मीडिया से मिले धन के लिए विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड से अनुमति मिलने से संबंधित है। जिसमें 305 करोड़ रुपए की गैर-कानूनी लेन-देन मामले में इंद्राणी मुखर्जी के अलावा पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम भी आरोपी है।

बता दें इस मामले में ईडी ने पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम पर भी आरोप लगाया है कि उन्होंने इस मामले में नियमों का उल्लंघन करके रिपोर्ट को अपनी मंजूरी दी थी, जिससे कार्ति चिदंबरम को मोटी रकम हासिल हुई थी। हालाँकि, ये बात और है कि अभी चिदंबरम परिवार अपने ऊपर लगे इन आरोपों को नकारता आ रहा है। इस मामले के मद्देनजर केंद्रीय जाँच एजेंसी ने 15 मई को प्राथमिकी दर्ज करवाई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत की जाँच के लिए SIT गठित: CM योगी ने कहा – ‘जिस पर संदेह, उस पर सख्ती’

महंत नरेंद्र गिरी की मौत के मामले में गठित SIT में डेप्यूटी एसपी अजीत सिंह चौहान के साथ इंस्पेक्टर महेश को भी रखा गया है।

जिस राजस्थान में सबसे ज्यादा रेप, वहाँ की पुलिस भेज रही गंदे मैसेज-चौकी में भी हो रही दरिंदगी: कॉन्ग्रेस है तो चुप्पी है

NCRB 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान में जहाँ 5,310 केस दुष्कर्म के आए तो वहीं उत्तर प्रेदश में ये आँकड़ा 2,769 का है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,645FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe