‘काश, मैं भी चीनी राष्ट्रपति जैसा बन पाता, 500 लोगों को जेल में डाल देता’

"पाकिस्तान में भ्रष्टाचार करने वालों को जेल भेजने वाला सिस्टम बहुत ही धीमा चलता है। जिनपिंग की तरह 500 भ्रष्ट लोगों को जेल भेजने की मेरी भी ख्वाहिश है।"

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने रश्क जताया है कि वे चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की तरह अपने देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ़ कदम नहीं उठा पा रहे हैं। उनके मुताबिक वे यह सुनकर बहुत प्रभावित हुए कि चीनी राष्ट्रपति ने पिछले 5 सालों में भ्रष्टाचार में लिप्त होने के आरोप में 400 के करीब मंत्री-स्तर के अधिकारियों को जेल पहुँचा दिया है। इमरान China Council for Promotion of International Trade के कार्यक्रम में बोल रहे थे। वे फ़िलहाल चीन के दौरे पर हैं।

बड़ा ही ‘स्लो’ है पाकिस्तान वाला सिस्टम

इमरान खान ने अफ़सोस जताया कि पाकिस्तान में भ्रष्टाचारियों को जेल भेजना वाला सिस्टम बहुत ही धीमा चलता है। उन्होंने जिनपिंग की तरह 500 भ्रष्ट लोगों को जेल भेजने की ख्वाहिश जताई। साथ ही पाकिस्तान के चीन से गरीबी उन्मूलन सीखने पर ज़ोर दिया। “मुझे जो चीज़ चीन की सबसे अधिक प्रेरित करती है, वह है पिछले 30 सालों में 70 करोड़ लोगों को गरीबी से उबारना। ऐसा मानव इतिहास में पहले कभी नहीं हुआ।”  

पाकिस्तान को निवेश-फ्रेंडली बनाने की कर रहे हैं कोशिश

इमरान खान ने दावा किया कि जब से उनकी सरकार सत्ता में आई है, कोशिश देश को निवेशकों के लिए अधिक से अधिक दोस्ताना और लाभदायक बनाने की है। “हम चाहेंगे कि वे पाकिस्तान में लाभ कमाएँ।” उन्होंने साथ में यह भी माना कि भ्रष्टाचार निवेश में सबसे बड़ी रुकावटों में से एक है।

इमरान के पहले पहुँचे बाजवा

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इमरान के पहले ही पाकिस्तान के सैन्य प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा चीन पहुँच गए थे। वहाँ वह न केवल चीन के सैन्य नेतृत्व से मिलेंगे, बल्कि इमरान खान की चीनी प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति के साथ बैठकों में  भी उनकी शिरकत होगी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

गोटाभाया राजपक्षे
श्रीलंका में मुस्लिम संगठनों के आरोपों के बीच बौद्ध राष्ट्र्वादी गोटाभाया की जीत अहम है। इससे पता चलता है कि द्वीपीय देश अभी ईस्टर बम ब्लास्ट को भूला नहीं है और राइट विंग की तरफ़ उनका झुकाव पहले से काफ़ी ज्यादा बढ़ा है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,382फैंसलाइक करें
22,948फॉलोवर्सफॉलो करें
120,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: