Saturday, July 31, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय370 पर पुलवामा दोहराने की धमकी देने के बाद डरे हुए पाकिस्तान ने बंद...

370 पर पुलवामा दोहराने की धमकी देने के बाद डरे हुए पाकिस्तान ने बंद की अपनी वायुसीमा

पाकिस्तान फरवरी के बालाकोट हमले जैसी प्रतिक्रिया से सशंकित है, इसलिए अपनी वायुसीमा को बंद करना ज़रूरी समझता है। पाक प्रवक्ता का कहना है हिंदुस्तान के लिए अपनी एयर-स्पेस खोलने का पाकिस्तान एयर लाइन्स को कोई खास फ़ायदा नहीं हुआ है। हिंदुस्तान जाने वाली फ्लाइटें चलाना कम यात्रियों के चलते घाटे का सौदा है।

प्रधानमंत्री निवास की भैंसे नीलाम कर और नान-रोटी के दामों से अर्थव्यवस्था सुधारने की कोशिश कर रहे इमरान खान ने जम्मू-कश्मीर पर भारत के शख्त निर्णय के बाद पाकिस्तानी संसद के संयुक्त सत्र में भारत को धमकी दी थी कि इसका अंजाम हिंदुस्तान को पुलवामा जैसे हमलों से भुगतना पड़ेगा, लेकिन अब वह खुद रक्षात्मक बैकफ़ुट पर आ गए हैं। पाकिस्तान ने पुलवामा का मज़ा चखाने के लिए हुई बालाकोट एयर-स्ट्राइक जैसे किसी कदम की पुनरावृत्ति की आशंका में अपनी वायुसीमा फिर से हिंदुस्तानी नागरिक हवाई जहाजों के लिए बंद करने की घोषणा की है।

टाइम्स ऑफ़ इस्लामाबाद में छपी एक खबर में पाकिस्तान एयर लाइन्स के प्रवक्ता मशूद तजवार के हवाले से दावा किया गया है कि चूँकि पाकिस्तान फरवरी के बालाकोट हमले जैसी प्रतिक्रिया से सशंकित है, इसलिए अपनी वायुसीमा को बंद करना ज़रूरी समझता है। उनके हवाले से दावा यह भी किया गया है कि हिंदुस्तान के लिए अपनी एयर-स्पेस खोलने का पाकिस्तान एयर लाइन्स को कोई खास फ़ायदा नहीं हुआ है। हिंदुस्तान जाने वाली फ्लाइटें चलाना कम यात्रियों के चलते घाटे का सौदा है।

अपने इस ट्वीट में बीबीसी से जुड़े रहे पत्रकार जान अचाकज़ाई दावा करते हैं पाकिस्तान ने अपनी हवाई सीमा बंद करने के अलावा अपने हाई कमिश्नर को हिंदुस्तान न लौटने का निर्देश दिया है।

‘ऑपरेशन बंदर’ के छद्म-नाम से हुए बालाकोट हवाई हमले के बाद पाकिस्तान ने अपनी हवाई सीमा हिंदुस्तानी हवाई जहाजों के लिए बंद कर दी थी। एक तरफ वह दावा करता रहा कि हिंदुस्तान की वायु सेना ने ‘केवल कुछ पेड़ जलाए’, दूसरी ओर हवाई सीमा खोलने के लिए शर्त भी लगा दी थी कि हिंदुस्तान वादा करे कि बालाकोट जैसा हमला दोबारा नहीं होगा। जुलाई में जाकर उसने अपनी वायु-सीमा फिर से खोली

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेगासस: ‘खोजी’ पत्रकारिता का भ्रमजाल, जबरन बयानबाजी और ‘टाइमिंग’- देश के खिलाफ हर मसाले का प्रयोग

दुनिया भर में कुल जमा 23 स्मार्टफोन में 'संभावित निगरानी' को लेकर ऐसा बड़ा हल्ला मचा दिया गया है, मानो 50 देशों की सरकारें पेगासस के ज़रिए बड़े पैमाने पर अपने नागरिकों की साइबर जासूसी में लगी हों।

पिता ने उधार लेकर करवाई हॉकी की ट्रेनिंग, निधन के बाद अंतिम दर्शन भी छोड़ा: अब ओलंपिक में इतिहास रच दी श्रद्धांजलि

वंदना कटारिया के पिता का सपना था कि भारतीय महिला हॉकी टीम ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीते। बचपन में पिता ने उधार लेकर उन्हें हॉकी की ट्रेनिंग दिलवाई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe