Monday, September 20, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअमेरिका: दंगों के दौरान ‘ला इलाहा इल्लल्लाह’ के नारे, महिला प्रदर्शनकारी ने कपड़े उतारे:...

अमेरिका: दंगों के दौरान ‘ला इलाहा इल्लल्लाह’ के नारे, महिला प्रदर्शनकारी ने कपड़े उतारे: Video अपनी ‘श्रद्धा’ से देखें

दूसरे वीडियो में आप देख सकते हैं कि सैकड़ों की संख्या में सड़क पर प्रदर्शनकारी जमा हैं। बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों को अर्धनग्न अवस्था में देखा जा सकता है, जिनमें महिलाएँ भी शामिल हैं।

अमेरिका में जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के बाद बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। विरोध-प्रदर्शन देश के विभिन्न हिस्सों में हिंसा, दंगा, आगजनी, लूटपाट में तब्दील हो चुका है। सोशल मीडिया पर दो वीडियो सामने आए हैं। इनमें से एक में दंगाई ‘ला इलाहा इल्लल्लाह’ के नारे लगा रहे हैं। दूसरे वीडियो में एक महिला प्रदर्शनकारी कपड़े उतारते दिख रही है।

@diorIucas नाम के यूजर द्वारा ट्विटर पर शेयर की गई वीडियो में आप देख सकते हैं कि दंगाई लगातार इस्लामिक नारे लगा रहे हैं। वे ‘ला इलाहा इल्लल्लाह’ के साथ ही ‘अल्लाहु अकबर’ के नारे लगाते हुए देखे और सुने जा सकते हैं।

दूसरे वीडियो में आप देख सकते हैं कि सैकड़ों की संख्या में सड़क पर प्रदर्शनकारी जमा हैं। बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों को अर्धनग्न अवस्था में देखा जा सकता है, जिनमें महिलाएँ भी शामिल हैं।

वीडियो में आप देखेंगे कि एक महिला पल्टी कार के ऊपर चढ़ती है और अपने कपड़े उतारकर विरोध जताती है। इतना ही नहीं पास में खड़े लोग अपने मोबाइल से इस दृश्य को कैद करने में लगे हुए हैं।

इस प्रदर्शन के एक फोटो को @Millie__Weaver नाम के यूजर ने भी अपने ट्विटर एकाउंट से शेयर किया है।

आपको बता दें कि 46 वर्षीय अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की एक मिनिपोलिस पुलिस अधिकारी के हाथों मौत हो गई थी। कथित तौर पर उस मिनिपोलिस पुलिस अधिकारी ने फ्लॉयड की गर्दन पर लगभग 9 मिनट तक अपना घुटना रखा। जॉर्ज फ्लॉयड इस दौरान घुटना हटाने की गुहार लगाता रहा।

उसने यह भी कहा कि वह साँस नहीं ले पा रहा है। लेकिन पुलिस अधिकारी नहीं पिघला और फ्लॉयड की मौत हो गई। इसके बाद लोगों का गुस्सा पुलिस के प्रति भड़क गया और हिंसक रूप ले लिया।

शनिवार (30 मई 2020) को यह विरोध-प्रदर्शन पूरे देश में फैल गया, जिसके कारण कई शहरों ने कर्फ्यू लगा दिया गया। फिलाडेल्फिया में प्रदर्शनकारियों ने मियामी में राजमार्ग को यातायात को बंद करने के दौरान एक मूर्ति को गिराने की कोशिश भी की।

गौतरतलब है कि पिछले साल भारत में हुए सीएए विरोध प्रदर्शनों में के दौरान अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुए विरोध-प्रदर्शनों के दौरान छात्रों को ला इलाहा इल्लल्लाह, मुहम्मदान रसूलुल्लाह का नारा लगाते हुए सुना गया था।

इतना ही नहीं शरजील इमाम के समर्थन में जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्रों ने द्वारा 22 फरवरी, 2020 को निकाले गए मार्च में भी जामिया के छात्रों ने ‘ला इलाहा इल्लल्लाह’ जैसे मजहबी नारे लगाए थे। साथ ही कई अन्य नारों के जरिए मोदी सरकार का विरोध किया गया था और शरजील इमाम का समर्थन किया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

न्यूजीलैंड के बाद अब ECB ने पाकिस्तान को दिया झटका: इंग्लैंड ने रद्द किया Pak दौरा, कहा – ‘ताज़ा परिस्थितियाँ ठीक नहीं’

'इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ECB)' ने घोषणा की है कि उसने अपनी पुरुष व महिला टीमों का अक्टूबर में होने वाला पाकिस्तान दौरा रद्द कर दिया है।

आज योगेश है, कल हरीश था: अलवर में 2 साल पहले भी हुई थी दलित की मॉब लिंचिंग, अंधे पिता ने कर ली थी...

आज जब राजस्थान के अलवर में योगेश जाटव नाम के दलित युवक की मॉब लिंचिंग की खबर सुर्ख़ियों में है, मुस्लिम भीड़ द्वारा 2 साल पहले हरीश जाटव की हत्या को भी याद कीजिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,439FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe