Wednesday, September 29, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयगेट तोड़ा-घर घेरा, लेकिन डरे नहीं दंपति, 300 दंगाइयों के सामने हैंडगन और रायफल...

गेट तोड़ा-घर घेरा, लेकिन डरे नहीं दंपति, 300 दंगाइयों के सामने हैंडगन और रायफल लेकर खड़े रहे: Video

मार्क और पेट्रीसिया प्रदर्शनकारियों को उनकी हवेली से बाहर निकलने के लिए कह रहे थे और हथियारों की मदद से वो उन्हें दूर रखने की कोशिश कर रहे थे। वीडियो में मार्क को दंगाइयों को चेतावनी देते हुए देखा जा सकता है। इसके बाद प्रदर्शनकारियों को “Let’s go” और “Keep moving" बोलते हुए सुना जा सकता है।

अमेरिका के सेंट लुइस में जब ‘शांतिप्रिय’ प्रदर्शनकारियों ने एक हवेली को घेर लिया तो हैंडगन और रायफल लेकर घर वाले बाहर ही खड़े मिले। इसका एक वीडियो भी वायरल हो रहा है। इसमें दंपति अपने घर को बचाने के लिए रायफल और हैंडगन ताने हुए दिखाई दे रहे हैं।

डेली मेल के मुताबिक वीडियो में जो दंपति दिख रहे हैं, पेशे से दोनों वकील हैं। पति का नाम मार्क और पत्नी का नाम पेट्रीसिया मैकक्लोस्की बताया जा रहा है। यह घटना रविवार (जून 28, 2020) शाम करीब 6 बजे की है। जब ‘ब्लैक लाइव्स मैटर्स’ दंगाइयों ने हवेली को घेर लिया। दंपती ने भी अपने घर को बचाने के लिए कमर कस ली और उन्हें बंदूक के निशाने पर लिया।

मार्क और पेट्रीसिया प्रदर्शनकारियों को उनकी हवेली से बाहर निकलने के लिए कह रहे थे और हथियारों की मदद से वो उन्हें दूर रखने की कोशिश कर रहे थे। वीडियो में मार्क को दंगाइयों को चेतावनी देते हुए देखा जा सकता है। इसके बाद प्रदर्शनकारियों को “Let’s go” और “Keep moving” बोलते हुए सुना जा सकता है।

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ‘ब्लैक लाइव्स मैटर्स’ दंगाई सेंट लुइस के मेयर लिडा क्रूसन के घर की ओर उनसे इस्तीफा माँगने के लिए जा रहे रहे थे। इसी दौरान वो लोग इस दंपति के घर में घुस गए, जिसके बाद इस तरह की स्थिति उत्पन्न हो गई। उन लोगों ने एक गेट को तोड़ दिया। इस दौरान दंपति ने लगभग 300 प्रदर्शनकारियों के समूह का सामना किया।

अमेरिका में जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के बाद वहाँ ‘ब्लैक लाइव्स मैटर्स’ नाम का प्रोटेस्ट शुरू हुआ, जिसके कारण वहाँ भीषण दंगे हुए। इन दंगों की आग यूरोप में भी कई देशों तक पहुँची। इस दौरान कई जगह आगजनी, हिंसा और लूटपाट की घटनाएँ भी सामने आई। बुधवार (4 मई, 2020) को प्रदर्शनकारियों ने अमेरिका के वॉशिंगटन में भारतीय दूतावास के सामने लगी गाँधी जी की प्रतिमा को नुकसान पहुँचाया था। वहीं ‘ब्लैक लाइव्स मैटर्स’ के प्रदर्शनकारियों ने लंदन के वेम्ब्ले के ईलिंग रोड में स्थित मीरा नाम की एक भारतीय महिला के रेस्टॉरेंट पर हमला बोल दिया था। 

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,044FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe