Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजजोधपुर जेल में कैदी पर हमला, दावा- धर्मांतरण का डाल रहे थे दबाव, बाँट...

जोधपुर जेल में कैदी पर हमला, दावा- धर्मांतरण का डाल रहे थे दबाव, बाँट रहे हिंदू विरोधी किताबें: जेलर ने बताया कैदियों के बीच का झगड़ा

सुभाष का आरोप है कि जेल के अंदर हिन्दू धर्म के खिलाफ माहौल बनाया जा रहा है। हमला करने के आरोपित ATS द्वारा आतंकी मामलों में पकड़े गए थे।

राजस्थान के जोधपुर सेंट्रल जेल में सुभाष नाम के एक बंदी पर हमले का मामला सामने आया है। सुभाष का दावा है कि उस पर धर्मांतरण का दबाव डाला जा रहा था। जेल के भीतर हिंदू विरोधी किताबें बाँटी जाती है। वकार और अशरफ सहित 6 लोगों पर उसने हमले का आरोप लगाया है। ये सभी आतंकवाद के आरोपों में जेल में बंद हैं।

घटना रविवार (29 जनवरी 2023) की है। सुभाष का इलाज चल रहा है। जोधपुर पुलिस ने जाँच की बात कही है। दैनिक भास्कर ने जेलर के हवाले से घटना को कैदियों के बीच का झगड़ा बताया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जोधपुर सेंट्रल जेल के वार्ड नंबर 15 में बंद सुभाष विश्नोई नाम के एक बंदी ने आरोप लगाया है कि लगभग डेढ़ माह से उस पर अशरफ और वकार इस्लाम कबूलने का दबाव बना रहे थे। इससे वह मानसिक तनाव में था। आरोप के मुताबिक रविवार सुबह 11 बजे जब वह अपनी बैरक से बाहर निकला तब अशरफ और वकार सहित आधे दर्जन बंदियों ने उस पर हमला कर दिया। इस हमले में सुभाष की पसलियों में फैक्चर हो गया। साथ ही उसके हाथ और मुँह पर भी चोटें आईं हैं।

जेल प्रशासन को भी कठघरे में खड़ा करते हुए सुभाष ने कहा कि वह 3 दिनों से मौखिक तौर पर इसकी शिकायत अधिकारियों से कर रहा था। पीड़ित के मुताबिक उन्हें लिखित शिकायत के लिए कलम और कागज ही नहीं मिला। बताया जा रहा है कि जेलर राजपाल सिंह ने सुभाष को सुरक्षा का भरोसा दिया था। सुभाष का यह भी आरोप है कि जेल के अंदर हिन्दू धर्म के खिलाफ माहौल बनाया जा रहा है। उसने आरोपित बंदियों पर अन्य बंदियों को हिन्दू धर्म विरोधी किताबें पढ़ाने का भी आरोप लगाया है। सुभाष पर हमला करने के आरोपित करीब 8 साल पहले ATS द्वारा आतंकी मामलों में पकड़े गए थे।

अशरफ और वकार के हमले में घायल सुभाष को जोधपुर के महात्मा गाँधी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है, जहाँ उसका इलाज चल रहा है। हालाँकि जेल प्रशासन ने पॉक्सो केस में बंद सुभाष के आरोपों की पुष्टि नहीं की गई है। इस घटना पर जोधपुर पुलिस कमिश्नर ने DCP पूर्व से वर्तमान कार्रवाई की जानकारी तलब की है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘228 किलो सोना चोरी होने का सबूत दें शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद, या जाएँ कोर्ट’: मंदिर समिति की दो टूक, पूछा – कॉन्ग्रेस के एजेंडे को...

अजेंद्र अजय ने कहा कि सीएम धामी से साधु-संतों और जनप्रतिनिधियों ने अनुरोध किया था, ऐसे में वो धार्मिक कार्यक्रम में सम्मिलित हुए, इसमें सरकारी पैसा नहीं लगा है ।

कर्नाटक में कॉन्ग्रेस सरकार के ‘लोकल कोटा’ पर उठे सवाल, उद्योगपति बोले- प्राइवेट सेक्टर में कन्नड़ भाषियों को रिजर्वेशन भेदभावपूर्ण, बिल रद्द करें

कर्नाटक में निजी नौकरियों में कन्नड़ लोगों को 50-75% आरक्षण देने का निर्णय कारोबारी समुदाय को रास नहीं आया है। उन्होंने इसकी आलोचना की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -