Sunday, December 5, 2021
Homeरिपोर्टमीडिया12 ऐसे उदाहरण, जब वामपंथी मीडिया ने फैलाया कोविड वैक्सीन के खिलाफ प्रोपेगेंडा, लोगों...

12 ऐसे उदाहरण, जब वामपंथी मीडिया ने फैलाया कोविड वैक्सीन के खिलाफ प्रोपेगेंडा, लोगों में बनाया डर का माहौल

सरकार के अथक प्रयासों के बावजूद कोरोना महामारी के इस दौर में वामपंथी मीडिया झूठ को आधार बनाकर भ्रामक सूचनाएँ दे रहे हैं। हमारे पास 12 ऐसे उदाहरण हैं, जब वामपंथी मीडिया ने कोरोना की दूसरी लहर से ठीक पहले अपने ऑनलाइन पोर्टल्स पर वैक्सीन को लेकर फैक न्यूज फैलाई और लोगों के बीच भय का माहौल पैदा किया।

इस समय देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का प्रकोप जारी है। वहीं, मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पहले की अपेक्षा भारत अब रिकवरी की राह पर है। केंद्र और राज्य सरकारें अस्पतालों में बेड की संख्या बढ़ाने, ऑक्सीजन की सप्लाई और जरूरी दवाओं को मुहैया कराने का जीतोड़ प्रयास कर रही हैं।

केंद्र सरकार कोरोना की बेकाबू रफ्तार को काबू करने के लिए इस दिशा में सबसे सशक्त टीकाकरण अभियान चला रही है। इसके मद्देनजर मोदी सरकार ने COVID-19 वैक्सीन के निर्यात पर भी अंकुश लगाया है। साथ ही राज्यों को सीधे निर्माताओं से वैक्सीन खरीदने की अनुमति दी है।

सरकार के अथक प्रयासों के बावजूद कोरोना महामारी के इस दौर में वामपंथी मीडिया झूठ को आधार बनाकर भ्रामक सूचनाएँ दे रहे हैं। हमारे पास 12 ऐसे उदाहरण हैं, जब वामपंथी मीडिया ने कोरोना की दूसरी लहर से ठीक पहले अपने ऑनलाइन पोर्टल्स पर वैक्सीन को लेकर फैक न्यूज फैलाई और लोगों के बीच भय का माहौल पैदा किया।

1- ‘द प्रिंट’ ने कोविशिल्ड और कोवैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल को मंजूरी मिलने पर उठाया था सवाल

जनवरी 2021 में, कोरोना वैक्सीन को लेकर चल रही तमाम कवायद के बीच ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने भारत में निर्मित COVID-19 वैक्सीन कोविशिल्ड और कोवैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल को मंजूरी दी थी। इसको लेकर ‘द प्रिंट’ ने भारत की नियामक प्रणाली पर सवाल उठाते हुए एक लेख प्रकाशित किया था।

द प्रिंट का लेख

2- द प्रिंट ने अपने लेख में कोवैक्सीन की स्वीकृति को ‘राजनीतिक जुमला’ कहा था

द प्रिंट में प्रकाशित एक अन्य लेख में डीसीजीआई द्वारा सीरम इंस्टीट्यूट के कोविशिल्ड और भारत बायोटेक के कोवैक्सिन टीके को इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी देने को ‘राजनीतिक जुमला’ के रूप में पेश किया था। उन्होंने लेख में टीके के दुष्प्रभाव के बारे में लिखा और लोगों में इसके प्रति भय का माहौल पैदा करने का प्रयास किया।

3- द प्रिंट ने वैक्सीन के प्रभाव पर जताया संदेह

जब भारत दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान को शुरू करने के लिए तैयार था, तभी प्रिंट ने एक और लेख प्रकाशित किया। भारत की खतरनाक रिकवरी कॉकटेल शीर्षक से प्रकाशित यह लेख वैक्सीन की गुणवत्ता पर संदेह को लेकर था।

द प्रिंट

4- डॉक्टरों को कोवैक्सीन पर संदेह: द प्रिंट

द प्रिंट में प्रकाशित एक अन्य लेख में कहा गया था कि यहाँ तक कि डॉक्टरों को भी भारत बायोटेक की कोवैक्सीन पर संदेह है।

5- नियामक समिति को वैक्सीन की मंजूरी देने के बारे में आश्वस्त नहीं किया: प्रिंट

प्रिंट ने यह दावा किया कि कोवैक्सीन टीके के इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मंजूरी दिए जाने से एक दिन पहले, नियामक समिति को वैक्सीन की मंजूरी देने के बारे में आश्वस्त नहीं किया गया था।

6- द वायर ने लेख प्रकाशित किया, जिसमें कहा गया कि दो टीकों की मंजूरी भारतीय विज्ञान को कलंकित करती है

वामपंथी प्रचार साइट द वायर ने भी उन लेखों को प्रकाशित किया, जिन्होंने टीके को लेकर भ्रामक सूचनाओं को बढ़ावा देने का काम किया। द वायर ने एक लेख प्रकाशित किया जिसका शीर्षक था “भारत ने दो टीके प्राप्त किए हैं, लेकिन इसके नियामकों ने भारतीय विज्ञान को कलंकित किया है।”

द वायर

7- द वायर में प्रकाशित लेख कोवैक्सीन के परीक्षण डेटा के बारे में संदेह पैदा करता है

वायर ने अपने एक अन्य लेख में कोवैक्सीन के परीक्षण डेटा के बारे में संदेह पैदा किया। वायर द्वारा स्वदेशी रूप से निर्मित वैक्सीन को लेकर दुष्प्रचार करने वाला यह दूसरा लेख था।

8- द वायर ने की चीन से भारत की तुलना

द वायर ने अपने लेख में भारत की तुलना चीन से की। उसने लिखा, ”क्या भारत चीन के रास्ते पर चलना चाहता है, जहाँ कई टीकों का अस्तित्व है, लेकिन कोई विश्वास नहीं करता है।” इस लेख में भी उसने टीकों को लेकर सवाल उठाए।

9- द वायर ने भारत के COVID टीकों के आँकड़ों पर सवाल उठाया

टीकों को जनवरी 2021 के पहले सप्ताह में मंजूरी दी गई थी, लेकिन फरवरी के मध्य में भी द वायर ने टीकों के खिलाफ अपना दुष्प्रचार जारी ​रखा। 19 फरवरी को प्रकाशित एक लेख में वायर ने कहा कि अभी भी SARS-CoV-2 वेरिएंट के खिलाफ भारत के COVID टीकों के लिए प्रभावकारी डेटा की कमी थी।

10- वायर ने भारत के टीकाकरण अभियान पर संदेह व्यक्त किया

द वायर ने भारत के टीकाकरण अभियान पर भी संदेह जताया। उसने एक लेख में लिखा, ”टीकाकरण अभियान पर कोई सहमति नहीं थी फिर भी सरकार इस पर ​अडिग रही।” संक्षेप में वायर ने कहा कि टीकाकरण अभियान को तब तक नहीं शुरू किया जाना चाहिए, जब तक कि सभी विवादों को समाप्त नहीं कर दिया जाता।

11- कोविड-19 वैक्सीन को मंजूरी देने के बाद स्क्रॉल का डर आया सामने

एक अन्य वामपंथी पोर्टल स्क्रॉल.इन ने वैक्सीन को लेकर अफवाह फैलाने का काम किया। भारत द्वारा दो स्वदेशी कोरोना वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल को मंजूरी दिए जाने के कुछ दिनों बाद स्क्रॉल ने भारत के टीकाकरण अभियान को कम करने के लिए एक लेख प्रकाशित किया। इसमें कहा गया कि भारत आत्मनिर्भर वैक्सीन घोषित करने की जल्दबाजी में आग से खेल रहा है।

12- स्क्रॉल भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को लेकर सवाल उठाता है

स्क्रॉल ने अपने एक लेख में यह तर्क दिया कि भारत को एक “अनटेस्टेड टीका” नहीं खरीदना चाहिए, जब बेहतर सुरक्षा डेटा वाला एक सस्ता विकल्प उपलब्ध हो। यह भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के संदर्भ में था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अखिलेश के विधायक ने पुलिस अधिकारी का गला पकड़ा, जम कर धक्का-मुक्की: CM योगी के दौरे से पहले सपा नेताओं की गुंडागर्दी

यूपी के चंदौली में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पुलिस के साथ धक्का-मुक्की की। विधायक प्रभु नारायण सिंह ने सीओ का गला पकड़ा।

‘अपनी बेटी बेच दो, हमलोग काफी पैसे देंगे’: UK की महिलाओं को लालच दे रहे मिडिल-ईस्ट मुस्लिमों के कुछ समूह

महिला जब अपनी बेटी को स्कूल छोड़ने जा रही थी तो मिडिल-ईस्ट के 3 लोगों ने उनसे संपर्क किया और लड़की को ख़रीदीने के लिए एक बड़ी धनराशि की पेशकश की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,774FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe