BJP नेता रविंद्र खरात, 2 बेटे और भाई समेत 5 लोगों की निर्मम हत्या: महाराष्ट्र चुनाव से पहले साजिश या रंजिश?

इस वारदात के आधे घंटे बाद ही पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। उनसे देर रात तक पूछताछ जारी रही। भुसावल शहर के समता नगर में भारी संख्या में पुलिस की तैनाती...

महाराष्ट्र के जलगांव में बीजेपी नेता रविंद्र खरात समेत 5 लोगों की निर्मम हत्या का सनसनीखेज मामला सामने आया है। घटना महाराष्ट्र के जलगांव में भुसावल की है। पुलिस ने बताया कि बदमाशों ने खरात और अन्य पर गोलियाँ चलाईं और चाकू से हमला किया। हमले में खरात के अलावा उनके भाई सुनील, 2 बेटे – प्रेम सागर एवं रोहित और उनके एक दोस्त की मौत हो गई। इस मामले में पुलिस ने तीनों हमलावरों को गिरफ्तार किया है। फिलहाल पुलिस जाँच कर रही है।

घटना रविवार (अक्टूबर 6, 2019) देर रात तब हुई, जब बीजेपी नेता रवींद्र और उनके परिजन भुसावल शहर स्थित समता नगर परिसर में अपने घर के बाहर बैठे थे। घटना को अंजाम देने के लिए दो अपराधियों ने पहले खरात पर गोली चलाई। जिसमें वो बुरी तरह से घायल हो गए और मौके पर ही उनकी मौत हो गई। गोलीबारी की आवाज सुनकर उनके भाई सुनील बाबू राव खरात बाहर आए। हमलावरों ने उन पर भी गोली चलाई। वो जान बचाने के लिए घर में भागे। मगर हमलावरों ने उनका पीछा किया और चाकू से उनका गला काट दिया, उनकी भी वहीं पर मौत हो गई।

इसके बाद हमलावरों ने रवींद्र खरात के दोनों बेटे रोहित और प्रेम सागर के अलावा उनके एक दोस्त पर भी चाकू से हमला किया। इस दौरान हाथापाई हुई और अपराधी वहाँ से भाग गए। इस पूरे वारदात में दो लोगों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। तीन की जलगांव सिविल हॉस्पिटल ले जाते समय मौत हो गई। इस घटना में रविंद्र की पत्नी भी घायल हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इस वारदात के आधे घंटे बाद ही पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। उनसे देर रात तक पूछताछ जारी रही। भुसावल शहर के समता नगर में भारी संख्या में पुलिस की तैनाती की गई है। अधिकारी ने कहा, “इस बात की जानकारी अभी नहीं मिल पाई है कि यह हमला क्यों किया गया। बाजारपेठ पुलिस थाने में हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है और आरोपितों से पूछताछ जारी है।” पुलिस ने बताया कि अपराध में इस्तेमाल किए गए हथियारों को बरामद कर लिया गया है। उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होना है और वोटों की गिनती 24 अक्टूबर को की जाएगी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: