इजरायल दूतावास ब्लास्ट: दिल्ली पुलिस ने कारगिल के 4 युवकों को किया गिरफ्तार, स्पेशल सेल कर रही पूछताछ

इजरायल दूतावास ब्लास्ट मामले में कारगिल के 4 छात्र गिरफ्तार (साभार: NEWS 18)

राष्ट्रीय राजधानी स्थित इजरायल दूतावास के बाहर ब्लास्ट के मामले में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के कारगिल से चार युवकों को गिरफ्तार किया है। इन्हें कारगिल से ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली लाया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल इजरायल दूतावास के बाहर हुए विस्फोट के सिलसिले में चार छात्रों से पूछताछ कर रही है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिल्ली पुलिस ने इन चार लोगों को बुधवार (23 जून 2021) को गिरफ्तार किया। इनकी उम्र 21 से 25 साल के बीच है। ये सभी मध्यमवर्गीय परिवारों से आते हैं और कॉलेज के छात्र हैं। स्पेशल सेल के बाद एनआईए भी इनसे पूछताछ कर सकती है। 

इससे पहले इस मामले की जाँच कर रही राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) ने 15 जून 2021 को दो संदिग्धों का सीसीटीवी फुटेज जारी किया था। इसमें दो संदिग्ध दूतावास के बाहर जाते हुए दिखाई दिए थे। एनआईए ने इन संदिग्धों की पहचान बताने वालों को 10 लाख रुपए का इनाम देने घोषणा की थी।

NIA ने ट्वीट कर कहा था, “इन व्यक्तियों की पहचान और गिरफ्तारी के लिए जानकारी देने पर 10 लाख रुपए (प्रत्येक के लिए) की नकद राशि इनाम में दी जाएगी। अगर आप किसी को पहचानते हैं तो do.nia@gov.in, info.nia@gov.in या 011-24368800 और 9654447345 पर जानकारी दें।” NIA ने आरोपितों के वीडियो और फोटो के लिए गूगल ड्राइव का लिंक भी शेयर किया था।

गौरतलब है कि लुटियंस दिल्ली में 29 जनवरी 2021 की शाम को इजरायल के दूतावास के बाहर बम विस्फोट हुआ था। इसके बाद पूरी दिल्ली को हाई अलर्ट पर रखा गया था। खासकर, एयरपोर्ट्स और सरकारी इमारतों की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी। पेवमेंट के निकट हाई-सिक्योरिटी जोन में हुए इस धमाके में आसपास खड़ी गाड़ियों के शीशे फूट गए थे। CISF (केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल) ने महत्वपूर्ण स्थलों पर सुरक्षा कड़ी कर दी थी।

घटना के समय यहाँ से कुछ ही दूरी पर राजपथ पर स्थित एपीजे अब्दुल कलाम रोड पर बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी चल रही थी। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री समेत कई वीवीआईपी धमाके वाली जगह से महज 2 किलोमीटर दूर मौजूद थे। एक गमले में डाले गए IED को सड़क पर रख दिया गया, जिसे धमाके का कारण माना गया था। बता दें कि इजरायल ने इसे आतंकी हमला माना था। हालाँकि, धमाके में कोई हताहत नहीं हुआ था। भारत में इजरायल के राजदूत रॉन मलका ने कहा था कि इस हमले को अंजाम देने वाले अपराधियों और उनका मकसद पता लगाने के लिए हम भारतीय अधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

ऑपइंडिया स्टाफ़: कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया