Sunday, September 19, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाजम्मू-कश्मीर में जैश कमांडर वालिद ढेर, 4 बार बच निकलने में रहा था कामयाब

जम्मू-कश्मीर में जैश कमांडर वालिद ढेर, 4 बार बच निकलने में रहा था कामयाब

वालिद कोई आम आतंकी नहीं था। उसने पहले भी कई हत्याएँ की हुई है। उसने 2019 में पश्चिम बंगाल के पाँच श्रमिकों की बेरहमी से हत्या की थी। वहीं इस साल मारे गए पाँच नंदीमर्ग कुलगाम के स्थानीय नागरिकों के पीछे भी उसका हाथ था।

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों ने शुक्रवार (17 जुलाई, 2020) को जिन तीन आतंकियों को ढेर किया है उनमें से एक की पहचान वालिद के तौर पर हुई है। वालिद जैश-ए-मोहम्मद का शीर्ष कमांडर और आइईडी विशेषज्ञ था। वालिद मोस्टवांटेड आतंकी की लिस्ट में था। इससे पहले चार बार वह भागने में कामयाब रहा था। वालिद सुरक्षाबलों पर कई हमलों में शामिल रहा था।

वालिद पाकिस्तान में बैठे अपने आकाओं से सीधे निर्देश लेता था। वहीं मारे गए आतंकियों के पास से कई हथियार और गोला बारूद बरामद हुए हैं। मारे गए 2 अन्य आतंकियों के पहचान की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। लेकिन दैनिक जागरण के रिपोर्ट के अनुसार स्थानीय सूत्रों के मुताबिक उनके नाम रउफ अहमद और रईस अहमद हैं।

खबरों के अनुसार मुड़भेड़ के वक्त वालिद स्थानीय नागरिकों की आड़ में भागने की कोशिश कर रहा था। मगर जवानों ने सतर्कता दिखाते हुए उसे पकड़ लिया। इसके हैंड टू हैंड हुई लड़ाई के दौरान सुरक्षाबलों ने उसे मौत के घाट उतार दिया। उसने फिरन के अंदर हथियार छुपा रखा था।

वालिद कोई आम आतंकी नहीं था। उसने पहले भी कई हत्याएँ की हुई है। उसने 2019 में पश्चिम बंगाल के पाँच श्रमिकों की बेरहमी से हत्या की थी। वहीं इस साल मारे गए पाँच नंदीमर्ग कुलगाम के स्थानीय नागरिकों के पीछे भी उसका हाथ था। इतना ही नहीं पुलवामा आतंकी हमले में उसी ने आइईडी कार बम तैयार किया था। वालिद जम्मू कश्मीर के लड़कों को बम बनाने के प्रशिक्षण के साथ उन्हें आतंकवादी बनाने के लिए उकसाता भी था।

सुरक्षाबलों ने वालिद और उसके साथियों के शवों के पास से आधुनिक हथियारों को बरामद किया है। जिसमें दो एसाल्ट राइफलें, एक यूबीजीएल और एक अमरीका निर्मित एम-4 कार्बाइन राइफल, पांच मैगजीन और छह ग्रेनेड शामिल हैं।

गौतलब है कि सुबह जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच हुई मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए थे। यह मुठभेड़ दक्षिण कश्मीर स्थित कुलगाम जिले के नागनाड़ चिम्मर क्षेत्र में हुई। इस दौरान तीन आतंकवादी मारे गए और सेना के तीन जवान घायल हुए हैं। इस बात की आशंका है कि इलाके में और आतंकवादी छिपे हो सकते हैं। इसलिए पुलिस ने सर्च ऑपरेशन जारी रखा है।

सेना को मिली जानकारी के मुताबिक़ दक्षिण कश्मीर स्थित कुलगाम जिले के नागनाड़ क्षेत्र में कई आतंकवादी छिपे थे। सेना ने पहले उनसे आत्मसमर्पण कराने का प्रयास किया लेकिन जवाब में आतंकियों ने गोलीबारी कर दी। जिसके बाद सेना ने जवाबी कार्रवाई की और उसमें 3 आतंकवादी मारे गए। सेना ने इलाके के लोगों कुछ समय तक घरों के भीतर रहने का ही आदेश दिया है। सेना को इस ऑपरेशन के दौरान उन आतंकवादियों के पास से भारी मात्रा में हथियार और विस्फोटक भी मिले हैं।

केवल इस महीने के भीतर ही सेना ने घाटी में 14 आतंकवादियों को मार गिराया है। हाल ही में 13 जुलाई के दिन अनंतनाग के श्रीगुफ़वाड़ा क्षेत्र में जैश-ए-मोहम्मद के 2 आतंकी मारे गए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिख नरसंहार के बाद छोड़ दी थी कॉन्ग्रेस, ‘अकाली दल’ में भी रहे: भारत-पाक युद्ध की खबर सुन दोबारा सेना में गए थे ‘कैप्टेन’

11 मार्च, 2017 को जन्मदिन के दिन ही कैप्टेन अमरिंदर सिंह को पंजाब में बहुमत प्राप्त हुआ और राज्य में कॉन्ग्रेस के लिए सत्ता का सूखा ख़त्म हुआ।

अडानी समूह के हुए ‘The Quint’ के प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर, गौतम अडानी के भतीजे के अंतर्गत करेंगे काम

वामपंथी मीडिया पोर्टल 'The Quint' में बतौर प्रेजिडेंट और एडिटोरियल डायरेक्टर कार्यरत रहे संजय पुगलिया अब अडानी समूह का हिस्सा बन गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,096FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe