Thursday, September 16, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाVideo: 'अब हम कमजोर हो रहे हैं, हमें समर्थन की जरूरत है': ईद के...

Video: ‘अब हम कमजोर हो रहे हैं, हमें समर्थन की जरूरत है’: ईद के दिन मस्जिद में लश्कर के आतंकी

सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया जा रहा है, जिसमें जम्मू-कश्मीर के कुलगाम के तारिगाम में मस्जिद में लश्कर के आतंकियों को मस्जिद में घुसकर भारत के खिलाफ जहर उगलते और लोगों को गुमराह करते देखा जा सकता है।

ईद के दिन यानी बुधवार (जून 05, 2019) को जम्मू-कश्मीर के कुलगाम की जामिया मस्जिद में लश्कर-ए-
तैय्यबा के दो आतंकियों ने न केवल ईद की नमाज में घुसपैठ की बल्कि उसके बाद वहाँ मौजूद लोगों को संबोधित किया और लश्कर के समर्थन में नारेबाजी भी की। इस पूरी घटना के दौरान किसी ने भी उन्हें रोकने की कोशिश नहीं की।

लश्कर-ए-तैय्यबा के खूंखार आतंकवादी कश्मीर घाटी में अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। अब लश्कर आतंकियों ने अपनी हरकतों को जारी रखने के लिए लोगों से समर्थन की ‘भीख’ माँगने का नया तरीका निकाला है। जब पूरे हिंदुस्तान में मुस्लिम समुदाय के लोग ईद-उल-फितर की नमाज अदा कर रहे थे और खुशियाँ मना रहे थे, तब लश्कर के आतंकी लोगों को भारत के खिलाफ भड़काने और टेरर फंडिंग करने में जुटे थे।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया जा रहा है, जिसमें जम्मू-कश्मीर के कुलगाम के तारिगाम में मस्जिद में ईद की नमाज के दौरान लश्कर के आतंकियों को मस्जिद में घुसकर भारत के खिलाफ जहर उगलते और लोगों को गुमराह करते देखा जा सकता है। आतंकियों के हाथ में पिस्टल भी थीं। इस दौरान आतंकियों में सेना का खौफ भी दिख रहा था, लिहाजा वो अपनी जान बचाने और आतंक की दुकान चलाने के लिए लोगों से समर्थन माँग रहे थे। इतना ही नहीं, ये आतंकी अपने संगठन लश्कर के लिए फंड भी माँग रहे थे।

‘पाकिस्तान से रिश्ता क्या?’ ‘भाई-भाई इलल्लाह’

इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वीडियो में साफ-साफ दिख रहा है कि लश्कर के दोनों आतंकी एक और शख्स के साथ खड़े हैं। तीसरा शख्स शायद मस्जिद का इमाम हो सकता है। ये दोनों आतंकी नारेबाजी कर रहे हैं और चीख-चीखकर लोगों से वीडियो नहीं बनाने को कह रहा है। कैमरा बंद करने की धमकी भी दे रहे है। इस बीच हवा में हथियार लहराते हुए नारेबाजी भी कर रहे हैं। लश्कर के आतंकी कह रहे हैं, “आप क्या चाहते हैं” तो भीड़ नारे लगाती है, “आजादी”। दूसरे और तीसरे नारे में आतंकी पूछता है, “पाकिस्तान से रिश्ता क्या?” तो भीड़ से आवाज आ रही है “भाई-भाई इलल्लाह”। इसके बाद आतंकी कहता है, “तैयबा-तैयबा” तो भीड़ कहती है- “लश्कर-ए तैय्यबा ।”

इस वीडियो को शेयर करते हुए टीवी एंकर और पत्रकार रोहित सरदाना लिखा है, “कुलगाम की जामिया मस्जिद में ईद के दिन लश्कर का कमांडर बंदूक़ लहरा-लहरा कर तक़रीर करता रहा, किसी मौलाना, किसी इमाम ने रोकने की कोशिश नहीं की?”

मस्जिद में आम लोगों से आतंकी कह रहे थे, “अब हम कमजोर हो रहे हैं और आप लोगों के समर्थन की जरूरत है।” इस बीच आतंकियों ने ईद की नमाज अदा करने आए लोगों से फंड देने को कहा। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ईद की नमाज के दौरान लश्कर के आतंकियों ने आम लोगों से खूब फंड जुटाया।

जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना आतंकियों के खिलाफ अभियान चला रही है और आतंकियों को चुन-चुनकर मारा जा रहा है। पिछले कुछ महीनों में कई बड़े आतंकी कमांडरों को ढेर करने में कामयाबी मिली है। गृह मंत्री अमित शाह के कार्य संभालने के बाद घाटी में आतंकवादियों में डर का माहौल है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राचीन महादेवम्मा मंदिर विध्वंस मामले में मैसूर SP को विहिप नेता ने लिखा पत्र, DC और तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई की माँग

विहिप के नेता गिरीश भारद्वाज ने मैसूर के उपायुक्त और नंजनगुडु के तहसीलदार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए SP के पास शिकायत दर्ज कराई है।

कोहाट दंगे: खिलाफ़त आंदोलन के लिए हुई ‘डील’ ने कैसे करवाया था हिंदुओं का सफाया? 3000 का हुआ था पलायन

10 सितंबर 1924 को करीबन 4000 की मुस्लिम भीड़ ने 3000 हिंदुओं को इतना मजबूर कर दिया कि उन्हें भाग कर मंदिर में शरण लेनी पड़ी। जो पीछे छूटे उन्हें मार डाला गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,733FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe