Tuesday, September 21, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षापुलवामा: सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, हिजबुल मुजाहिदीन के 3 आतंकी ढेर; 18 घंटे में...

पुलवामा: सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, हिजबुल मुजाहिदीन के 3 आतंकी ढेर; 18 घंटे में मारे गए 8 दहशतगर्द, 1 ने किया आत्मसमर्पण

“कल दोपहर से शुरू हुए 18 घंटे से अधिक चले दो ऑपरेशनों के तहत, जम्मू-कश्मीर पुलिस और आरआर बटालियनों की बेहद ही सटीक खुफिया जानकारी और कड़ी मेहनत के जरिए हम 8 आतंकवादियों को मार पाने में सक्षम रहे हैं, साथ ही एक आतंकवादी ने आत्मसमर्पण किया है।”

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षाबलों को बड़ी सफलता मिली है। पुलवामा के जदूरा इलाके में शुक्रवार (अगस्त 28, 2020) रात शुरु हुई मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया है। मारे गए आतंकियों की पहचान आदिल हाफिज (निवासी डालीपोरा पुलवामा), राउफ (निवासी मुसपुना), अरशिद (निवासी द्रबगाम) के तौर पर हुई है।

जानकारी के मुताबिक, 18 घंटे में यहाँ कुल 8 आतंकी मारे गए हैं, वहीं एक आतंकी ने सरेंडर कर दिया है। आतंकियों के पास से कई हथियार भी बरामद की गई है।

आदिल वर्ष 2019 से कश्मीर में सक्रिय था, जबकि राउफ और अरशिद एक सप्ताह पहले ही आतंकी संगठन में शामिल हुए थे। जनसंपर्क अधिकारी (PRO) रक्षा, श्रीनगर से मिली जानकारी के अनुसार पुलवामा के जदूरा इलाके में कल रात शुरु हुई मुठभेड़ में गंभीर रूप से घायल होने के बाद एक सैनिक वीरगति को प्राप्त हो गए। मुठभेड़ में वीरगति को प्राप्त हुए जवान की पहचान उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर निवासी मनीष शर्मा के रूप में हुई है।

जम्मू-कश्मीर में विक्टर फोर्स के जनरल ऑपरेशन कमांडिंग (GOC) ए सेनगुप्ता ने बताया, “कल दोपहर से शुरू हुए 18 घंटे से अधिक चले दो ऑपरेशनों के तहत, जम्मू-कश्मीर पुलिस और आरआर बटालियनों की बेहद ही सटीक खुफिया जानकारी और कड़ी मेहनत के जरिए हम 8 आतंकवादियों को मार पाने में सक्षम रहे हैं, साथ ही एक आतंकवादी ने आत्मसमर्पण किया है।” 

उन्होंने बताया कि जिन 8 आतंकियों को मार गिराया गया, उनमें से 7 को 2020 में भर्ती किया गया था। इन गुमराह युवाओं को पाकिस्तानी आतंकवादियों, पाकिस्तानी हैंडलर्स और देश विरोधी लोगों द्वारा झूठे वादों के साथ भर्ती किया गया था।

ए सेनगुप्ता ने आगे बताया कि कल देर रात पुलवामा में हुई मुठभेड़ में मारे गए तीनों आतंकवादी हिजबुल मुजाहिदीन से संबंधित थे। इन आतंकवादियों में शामिल आदिल कई आतंकवादी घटनाओं में वांछित था। उसी ने अपने साथियों के साथ मिलकर परीचू पुल के नजदीक सुरक्षाबलों पर हमला किया था। इस ऑपरेशन के बारे में सेना ने शुक्रवार को यह बताया था कि आतंकियों के पास से 2 एके-47 रायफलें (AK-47 Rifles) और 3 पिस्टल भी बरामद की गई हैं। 

दक्षिण कश्मीर के DIG अतुल गोयल ने बताया कि कल दो ऑपरेशनों में जिन आतंकवादियों को ढेर किया गया, वह कई नागरिकों के साथ धृष्टता और सुरक्षा बलों पर हमले में शामिल थे। उन्होंने यह भी बताया कि इस वर्ष दक्षिण कश्मीर में लगभग 80 भर्तियाँ हुई हैं।

गौरतलब है कि इससे पहले सीमा सुरक्षा बल ने एक बार फिर पाकिस्तान की बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया। भारतीय सीमा में आतंकवादियों की घुसपैठ कराने के इरादे से बनाई गई सुरंग का पता लगाया है।

जम्मू बीएसफ के आईजी एनएस जम्वाल ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा था, “सैंडबैग्स के ऊपर पाकिस्तान की साफ-साफ मार्किंग हैं जो ये दिखाती हैं कि इसे (सुंरग) पूरी प्लानिंग और इंजीनियरिंग की कोशिशों के साथ खोदा गया है। पाकिस्तानी रेंजर्स और अन्य एजेंसियों की सहमति और अनुमोदन के बिना, इतनी बड़ी सुरंग का निर्माण नहीं किया जा सकता है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस राजस्थान में सबसे ज्यादा रेप, वहाँ की पुलिस भेज रही गंदे मैसेज-चौकी में भी हो रही दरिंदगी: कॉन्ग्रेस है तो चुप्पी है

NCRB 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान में जहाँ 5,310 केस दुष्कर्म के आए तो वहीं उत्तर प्रेदश में ये आँकड़ा 2,769 का है।

आज पाकिस्तान के लिए बैटिंग, कभी क्रिकेट कैंप में मौलवी से नमाज: वसीम जाफर पर ‘हनुमान की जय’ हटाने का भी आरोप

पाकिस्तान के साथ सहानुभूति रखने के कारण नेटिजन्स के निशाने पर आए वसीम जाफर पर मुस्लिम क्रिकेटरों को तरजीह देने के भी आरोप लग चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,586FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe