Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजलखनऊ से निकला, गलत बस में बैठा, नहीं मिली जब कोई मदद तो 'हाथ...

लखनऊ से निकला, गलत बस में बैठा, नहीं मिली जब कोई मदद तो ‘हाथ गाड़ी’ के सहारे ही पहुँच गया जौनपुर

ये युवक जौनपुर के मछलीशहर थाना क्षेत्र के देवरिया गाँव का निवासी है। जो लखनऊ की किसी सड़क पर पान गुटका बेचकर अपना और अपने परिवार का पेट पालता था। मगर, कोरोना के कारण लॉकडाउन का हल्ला सुनकर बस में बैठ गया, लेकिन वो बस जौनपुर न जाकर सीधे गोरखपुर चली गई।

देश में लॉकडाउन के ऐलान के बाद दूसरे राज्य में फँसे लोग पैदल ही अपने घर की ओर निकल पड़े हैं। सोशल मीडिया पर इन लोगों की कई तस्वीरें वायरल हो रही हैं। इनके लिए प्रशासन से मदद माँगी जा रही है, ताकि इन्हें सही सलामत इनके घर पहुँचाया जा सके। मगर, इसी बीच एक हैरान करने वाली खबर सामने आई है। जहाँ एक विकलांग युवक बिना किसी की मदद के अपने घर भी पहुँच गया, वो भी सिर्फ़ हाथ गाड़ी के सहारे। ये युवक गोखपुर से निकलकर गाजीपुर और फिर जौनपुर के मुफ्तीगंज इलाके पहुँचा। लेकिन, इस बीच किसी ने इसकी मदद नहीं की।

न्यूज 18 की खबर के अनुसार, ये युवक जौनपुर के मछलीशहर थाना क्षेत्र के देवरिया गाँव का निवासी है। जो लखनऊ की किसी सड़क पर पान गुटका बेचकर अपना और अपने परिवार का पेट पालता था। मगर, कोरोना के कारण लॉकडाउन का हल्ला सुनकर बस में बैठ गया, लेकिन वो बस जौनपुर न जाकर सीधे गोरखपुर चली गई। 

इसके बाद इस शख्स ने गोरखपुर से गाजीपुर की बस पकड़ी और फिर वहाँ पहुँचा। पर जब गाजीपुर से इसे कोई साधन नहीं मिला और न ही किसी ने उसे वहाँ कोई सहारा दिया। बस फिर क्या? अगले दिन वह गाजीपुर से बुधवार की सुबह-सुबह अपनी हाथ गाड़ी के सहारे अपने घर थाना मछली शहर के लिए निकल पड़ा और गुरुवार देर शाम जौनपुर पहुँच गया।

गौरतलब है कि इस समय दूसरे राज्यों में रहकर कमाने वाले लोग अपने गाँव, घर, शहर की ओर कूच कर चुके हैं। इन लोगों के लिए उत्तरप्रदेश में सीएम योगी ने मुख्य सचिव, अपर मुख्य सचिव गृह, पुलिस महानिदेशक, प्रमुख सचिव परिवहन तथा प्रमुख सचिव को निर्देश दिया है। जिसमें कहा गया है कि मानवीय आधार पर ऐसे व्यक्तियों के लिए भोजन और पानी की व्यवस्था की जाए और स्वास्थ्य संबंधी पूरी सावधानी बरतते हुए इन लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा जाए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रसगुल्ला के कारण राजदीप ने बंगाल हिंसा पर नहीं पूछा सवाल: TheLallantop के शो में कबूली बात, देखें वीडियो-समझें पत्रकारिता

राजदीप सरदेसाई ने कहा कि उन्होंने CM ममता बनर्जी से बंगाल हिंसा पर इसीलिए सवाल नहीं पूछे, क्योंकि ऐसा करने पर उन्हें रसगुल्ला नहीं मिलता।

जम्मू-कश्मीर में अब पत्थरबाजाें, देशद्रोहियों को नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी और पासपोर्ट: सरकार का आदेश, सर्कुलर जारी

पत्थरबाजों और देश विरोधी गतिविधियों में शामिल रहने वाले लोगों को ना तो सरकारी नौकरी दी जाएगी और न ही उनके पासपोर्ट का वेरिफिकेशन किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,434FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe