Sunday, August 1, 2021
Homeराजनीतिलेह-लद्दाख-कारगिल भारत का मस्तक, वीरों की धरती: PM मोदी

लेह-लद्दाख-कारगिल भारत का मस्तक, वीरों की धरती: PM मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जिन परियोजनाओं का लोकार्पण, उद्घाटन और शिलान्यास किया गया है, उन परियोजनाओं का लोकार्पण करने भी वही आएँगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर में लेह एयरपोर्ट सहित कई विकास परियोजनाओं का शिलान्यास किया। प्रधानमंत्री ने इस दौरान लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि शिलान्यास के बाद इन परियोजनाओं का लोकार्पण करने भी वही आएँगे। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार के काम करने का तरीका तेज़ी से काम करना है। लटकाने और भटकाने की संस्कृति देश पीछे छोड़ चुका है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जिन परियोजनाओं का लोकार्पण, उद्घाटन और शिलान्यास किया गया है, उनसे बिजली के साथ-साथ लेह-लद्दाख की देश और दुनिया के दूसरे शहरों से कनेक्टिविटी सुधरेगी, पर्यटन बढ़ेगा, रोज़गार के अवसर बढ़ेंगे और यहाँ के युवाओं को पढ़ाई के लिए अच्छी सुविधाएँ भी मिलेंगी। उन्होंने कहा कि यह धरती वीरों की है और यहाँ की जनता से मुझे प्रेम मिलता रहा है। लेह-लद्दाख-कारगिल भारत का शीर्ष है, हमारा मस्तक है। माँ भारती का ये ताज हमारा गौरव है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि लेह, लद्दाख का इलाक़ा अध्यात्म, कला-संस्कृति, प्राकृतिक सुंदरता और एडवेंचर स्पोर्ट्स के लिए दुनिया का एक महत्वपूर्ण स्थान है। यहाँ टूरिज्म के विकास के लिए एक और क़दम सरकार ने उठाया है। इसके अलावा यहाँ 5 नए ट्रैकिंग रूट को खोलने का फै़सला भी लिया गया है।

बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने जम्मू के विजयपुर भवनों और पुलवामा के अवंतीपोरा में नए एम्स की आधारशिला रखी और साथ ही किश्तवाड़ में 624 मेगावाट क्षमता वाली जल विद्युत परियोजना का शिलान्यास भी किया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रसगुल्ला के कारण राजदीप ने बंगाल हिंसा पर नहीं पूछा सवाल: TheLallantop के शो में कबूली बात, देखें वीडियो-समझें पत्रकारिता

राजदीप सरदेसाई ने कहा कि उन्होंने CM ममता बनर्जी से बंगाल हिंसा पर इसीलिए सवाल नहीं पूछे, क्योंकि ऐसा करने पर उन्हें रसगुल्ला नहीं मिलता।

जम्मू-कश्मीर में अब पत्थरबाजाें, देशद्रोहियों को नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी और पासपोर्ट: सरकार का आदेश, सर्कुलर जारी

पत्थरबाजों और देश विरोधी गतिविधियों में शामिल रहने वाले लोगों को ना तो सरकारी नौकरी दी जाएगी और न ही उनके पासपोर्ट का वेरिफिकेशन किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,434FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe