राफेल के कारण चीन और पाक पर भारी पड़ेगा भारत: नए वायु सेना प्रमुख ने इमरान की धमकी का दिया जवाब

एयर मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने 12 जुलाई को फ्रांस में ट्रायल के तौर पर राफेल लड़ाकू विमान में उड़ान भरी थी और विमान की जाँच भी की थी। इसके बाद उन्होंने कहा था कि राफेल देश की सेना के लिए बेहद अहम लड़ाकू विमान है।

भारतीय वायु सेना प्रमुख का पदभार संभालते ही एयर मार्शल राकेश कुमार भदौरिया ने पाकिस्‍तान और चीन के लिए चेतावनी भरे लहज़े का इस्‍तेमाल किया। उन्होंने कहा कि राफ़ेल के कारण चीन और पाकिस्तान पर भारत भारी पड़ेगा। पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान की ओर से न्‍यूक्‍लियर वार की चेतावनी पर उन्‍होंने कहा, “न्‍यूक्‍लियर संबंधित मामलों की उनकी यही समझ है। हमारी अपनी समझ, अपना विश्‍लेषण है। किसी भी चुनौती का सामना करने को हम तैयार हैं।”

भविष्य में बालाकोट स्ट्राइक जैसे हमले की संभावना पर सवाल पूछे जाने पर वायु सेना प्रमुख ने कहा, “हम तब भी तैयार थे, हम आगे भी तैयार रहेंगे। हर तरह की चुनौती और ख़तरे से निपटने के लिए हम तैयार हैं।” उन्होंने कहा कि पाकिस्तान फिर से बालाकोट आतंकी शिविरों को तैयार कर रहा है। यह बात हमें मालूम है और ज़रूरत पड़ने पर ज़रूरी कार्रवाई की जाएगी।

ख़बर के अनुसार, एयर मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने 12 जुलाई को फ्रांस में ट्रायल के तौर पर राफेल लड़ाकू विमान में उड़ान भरी थी और विमान की जाँच भी की थी। इसके बाद उन्होंने कहा था कि राफेल देश की सेना के लिए बेहद अहम लड़ाकू विमान है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

भदौरिया ने सोमवार (सितंबर 30, 2019) को भारतीय वायु सेना प्रमुख की कमान सँभाली। उन्होंने जून 1980 में आईएएफ के फाइटर स्ट्रीम में कमीशन प्राप्त किया था, जिसके बाद वो वायु सेना में विभिन्न प्रमुख पदों की ज़िम्मेदारी सँभाल चुके हैं।

एयर मार्शल भदौरिया को जनवरी 2013 में अति विशिष्ट सेवा पदक से नवाज़ा गया था। इससे पहले जनवरी 2002 में उन्हें वायु सेना पदक से सम्मानित किया गया था। जनवरी 2018 में उन्हें परम विशिष्ट सेवा पदक से भी सम्मानित किया गया था।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बीएचयू, वीर सावरकर
वीर सावरकर की फोटो को दीवार से उखाड़ कर पहली बेंच पर पटक दिया गया था। फोटो पर स्याही लगी हुई थी। इसके बाद छात्र आक्रोशित हो उठे और धरने पर बैठ गए। छात्रों के आक्रोश को देख कर एचओडी वहाँ पर पहुँचे। उन्होंने तीन सदस्यीय कमिटी गठित कर जाँच का आश्वासन दिया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,578फैंसलाइक करें
23,209फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: