अपहृत सपा नेता की धारदार हथियार से हत्या, नक्सलियों ने सड़क पर फेंका शव

छत्तीसगढ़ में बिगड़ती क़ानून व्यवस्था को लेकर सरकार विपक्ष के निशाने पर है। हाल ही में नक्सलियों ने बस्तर से एकमात्र भाजपा विधायक भीमा मंडावी की भी हत्या कर दी थी।

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों का आतंक थमता नहीं दिख रहा है। ताज़ा घटना में समाजवादी पार्टी के एक नेता की निर्मम हत्या कर दी गई है। राज्य के बीजापुर में सपा नेता की पहले तो धारदार हथियार से हत्या कर दी गई और फिर शव को सड़क पर फेंक दिया गया। मंगलवार (जून 18, 2019) को नक्सलियों ने उन्हें उनके पैतृक आवास से अपहृत कर लिया था। बीजापुर के एसपी दिव्यांग पटेल ने बताया कि अभी तक इस घटना के कारणों का पता नहीं चल पाया है। ये वारदात इलमिडी थाना क्षेत्र के मरिमल्ला गाँव में हुई है।

मृतक नेता का नाम संतोष पुनेम है और वह पार्टी के विधानसभा प्रत्याशी रह चुके हैं। वह किसी काम से गाँव स्थित अपने पैतृक आवास पहुँचे थे, जहाँ नक्सलियों ने मौक़ा देखते ही उनका अपहरण कर लिया। इसके बाद तमाम तरह के क़यास लगाए जा रहे थे लेकिन उनके बारे में कुछ पता नहीं चल पा रहा था। बुधवार की सुबह उनकी लाश सड़क पर पड़ी मिली। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत लोधेड़-मारिमल्ला में निर्माण कार्य किया जा रहा था, जिस वजह से संतोष नक्सलियों के निशाने पर थे।

वहीं पुलिस ने अभी तक इस बारे में खुल कर कुछ नहीं बताया है, अतः हत्या के और भी कारण हो सकते हैं। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। संतोष कॉन्ट्रेक्टर भी थे। वह गाँव में सड़क निर्माण सम्बन्धी कार्यों का जायजा लेने पहुँचे थे। जहाँ उनकी लाश मिली, वह जगह पुलिस थाने से 16 किलोमीटर दूर जंगल के भीतर है। पुनेम को विधानसभा चुनाव में 999 मत प्राप्त हुए थे। बता दें कि हाल ही में नक्सलियों ने बस्तर से एकमात्र भाजपा विधायक भीमा मंडावी की भी हत्या कर दी थी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

जब पुनेम की लाश मिली, तब आसपास काफ़ी ख़ून बिखरा हुआ था। वह बस्तर में सपा के उपाध्यक्ष भी थे। छत्तीसगढ़ में बिगड़ती क़ानून व्यवस्था को लेकर सरकार विपक्ष के निशाने पर है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: