Wednesday, September 29, 2021
Homeविविध विषयअन्यकुम्भ पर डाक टिकट जारी: आज़ाद भारत के इतिहास में पहली बार हुआ ऐसा

कुम्भ पर डाक टिकट जारी: आज़ाद भारत के इतिहास में पहली बार हुआ ऐसा

संपूर्ण विश्व के लिए कुंभ आस्था का प्रतीक है, दुनिया भर से लोग यहाँ आते हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए स्मारक डाक टिकट और स्मारिका जारी की गई है।

केंद्रीय रेल और संचार राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने शनिवार (2 फरवरी 2018) को कुंभ मेले पर भारतीय डाक विभाग का एक विशेष डाक टिकट जारी किया। इस अवसर पर एक विशेष ‘फस्ट डे कवर’ भी जारी किया गया। इसका मूल्य पाँच रुपए है।

इस अवसर पर श्री सिन्हा ने कहा कि कुंभ मेला न सिर्फ़ भारत का बल्कि पूरी दुनिया का एक प्रमुख आयोजन है। मनोज सिन्हा ने कहा कि कुंभ केवल एक धार्मिक और आध्यात्मिक ही नहीं, बल्कि यह पूरे विश्व का एक ज्योतिषीय, सांस्कृतिक और खगोलीय आयोजन भी है। कुंभ को ज्ञान के स्रोत के रूप में भी देखा जाता है।

कुंभ मेले पर जारी किया गया विशेष डाक टिकट

कुंभ पर डाक टिकट जारी करते हुए उन्होंने कहा कि कुंभ मेले पर टिकट जारी करना बड़े गौरव की बात है। इससे पहले की सरकारें इस प्रकार के आयोजनों पर स्मारक डाक टिकट जारी करने से बचती आई हैं। वर्तमान सरकार ने ऐसा साहस दिखाया है और कुंभ पर स्मारक डाक टिकट जारी किया, जो इससे पहले कभी नहीं हुआ

उन्होंने बताया कि कुंभ पूरे देश के साथ-साथ विश्व के लिए आकर्षण का केंद्र है। संपूर्ण विश्व के लिए कुंभ मेला आस्था का प्रतीक है, दुनिया भर से लोग यहाँ आते हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए स्मारक डाक टिकट और स्मारिका जारी की गई है।

केंद्रीय रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने जानकारी दी कि डाक विभाग ने कई क्षेत्रों में नए आयाम स्थापित किए हैं। डाक विभाग ने पार्सल के साथ-साथ तक़नीकी का इस्तेमाल कर कोर बैंकिंग की भी शुरुआत की है। इसके अलावा पासपोर्ट सेवा केंद्र भी डाक विभाग में खोले गए हैं। मनोज सिन्हा ने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि हर लोकसभा क्षेत्र में कम से कम एक पासपोर्ट केंद्र हो और हम इस लक्ष्य को फरवरी के अंत तक प्राप्त कर लेंगे। 2014 तक देश में सिर्फ़ 77 पासपोर्ट केंद्र थे, जो अब बढ़कर 300 से अधिक हो चुके हैं।

मनोज सिन्हा ने कहा कि अब इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के माध्यम से क्रान्तिकारी परिवर्तनों की डाक विभाग में शुरुआत हो चुकी है। इंडिया पोस्ट की लगभग 1,30,000 शाखाएँ खुल चुकी हैं और बीमा क्षेत्र में भी डाक विभाग जल्दी ही अपने क़दम आगे बढ़ाएगा।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,014FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe