Thursday, July 29, 2021
Homeदेश-समाजउन्नाव: धार्मिक नारे और FIR के नाम निकले फर्जी, CCTV फुटेज से पुलिस ने...

उन्नाव: धार्मिक नारे और FIR के नाम निकले फर्जी, CCTV फुटेज से पुलिस ने किया झूठ का खुलासा

पुलिस की प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया गया था कि उन्नाव में क्रिकेट खेलने के चलते विवाद हुआ और क्रिकेट की वजह से ही बच्चों में झगड़ा हुआ। CCTV फुटेज से...

शुक्रवार (जुलाई 12, 2019) को उत्तर प्रदेश के उन्नाव ज़िले में क्रिकेट मैच को लेकर मदरसा दारुल उलूम फैज़ ए आम के छात्रों और कुछ स्थानीय युवकों के बीच आपसी झड़प की ख़बर सामने आई थी। मारपीट के बाद छात्र मदरसा पहुँचा और उसने मैच के दौरान हुई मारपीट की जानकारी काज़ी निसार अहमद मिस्बाही को दी, जिन्होंने पूरे मामले को मॉब लिंचिंग से जोड़ने और सांप्रदायिक रंग देने का भरसक प्रयास किया।

इस मामले में उन्नाव पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया है कि बच्चों से ‘जय श्री राम’ का नारा लगवाने की शिक़ायत की अभी तक पुष्टि नहीं हुई है। अब तक पुलिस द्वारा एक शख़्स को गिरफ़्तार किया गया है और आगे जाँच जारी है।

उन्नाव पुलिस ने एक प्रेस नोट जारी किया है। इसके अनुसार, सीसीटीवी फुटेज में देखा गया है कि FIR में नामजद लोग मौक़े पर मौजूद ही नहीं थे। इस नोट में स्पष्ट लिखा गया है कि जय श्री राम का नारा लगवाने की बात इस पूरे प्रकरण में कहीं भी सामने नहीं आई है। इसका मतलब है कि जिस आधार पर उन चार लोगों को दोषी ठहराने की कोशिश की गई उन्हें ‘जय श्री राम’ के नारे के नाम पर बेवजह इस मामले में घसीटा गया था।

इस घटना के बाद कल (जुलाई 12, 2019) को पुलिस के बयान पर आधारित ऑपइंडिया की ही एक रिपोर्ट में यह स्पष्ट किया गया था। रिपोर्ट के अनुसार पुलिस द्वारा इस मामले में जाँच के बाद यह बात सामने आई थी कि ‘जय श्री राम’ के धार्मिक नारे लगवाने के लिए मजबूर करने वाली बात एकदम मनगढ़ंत और झूठी थी। ADG (क़ानून-व्यस्था) उन्नाव ने क्रिकेट खेलने को लेकर दो पक्षों में हुई मारपीट की घटना के बारे में बताया था कि इस मामले की जाँच में पता चला है कि मदरसे के बच्चों से धार्मिक नारे नहीं लगवाए गए थे। ऐसे झूठे आरोप लगाकर मेरठ और आगरा में भी शांति भंग करने का प्रयास किया गया।

पुलिस ने बयान दिया कि प्रदेश में कहीं भी अफ़वाह और शांति भंग करने का प्रयास किया जाएगा तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस घटना को लेकर लोकभवन में ADG LO, IG LO और प्रमुख सचिव सूचना की प्रदेश की क़ानून-व्यवस्था पर प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की गई थी।

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया गया था कि उन्नाव में क्रिकेट खेलने के चलते विवाद हुआ और क्रिकेट की वजह से ही बच्चों में झगड़ा हुआ। उन्होंने स्पष्ट किया कि बच्चों से कोई भी धार्मिक/मज़हबी नारे नहीं लगवाए गए थे। अधिकारियों ने बताया कि उन्नाव, मेरठ और आगरा में असामाजिक तत्वों को गिरफ़्तार किया गया और बिना भेदभाव के लोगों पर कार्रवाई की गई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,696FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe