Friday, September 17, 2021
Homeराजनीतिहिंदू धर्म को हिंसक बताने वाली उर्मिला मातोंडकर शिवसैनिक बनेंगी, विधान परिषद में मिल...

हिंदू धर्म को हिंसक बताने वाली उर्मिला मातोंडकर शिवसैनिक बनेंगी, विधान परिषद में मिल सकती है एंट्री

2019 में आम चुनावों के वक्त उर्मिला कॉन्ग्रेस में शामिल हुई थीं और उन्होंने लोकसभा चुनाव भी लड़ा था। लेकिन वह जीत नहीं पाईं थी। चुनाव के 5 महीने बाद उन्होंने कॉन्ग्रेस की अंदरूनी राजनीति से तंग आकर दिया इस्तीफ़ा दे दिया था।

अपनी लोकप्रियता बढ़ाने के लिए हिन्दू धर्म को हिंसक बता चुकी उर्मिला मातोंडकर को नया राजनीतिक ठिकाना मिल गया है। लोकसभा चुनाव के बाद कॉन्ग्रेस छोड़ने वाली ‘रंगीला’ फेम बॉलीवुड की यह अभिनेत्री अब शिवसेना का दामन थामने की तैयारी में हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, उर्मिला मातोंडकर सोमवार को शिवसेना में शामिल होंगी। कथित तौर पर, शिवसेना ने उन्हें राज्य विधान परिषद के लिए नामित करने का फैसला किया है। उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाले महाविकास अघाड़ी 46 वर्षीय अभिनेत्री का नाम 11 अन्य लोगों के साथ नामित कर सकती है।

2019 में आम चुनावों के वक्त उर्मिला कॉन्ग्रेस में शामिल हुई थीं और उन्होंने लोकसभा चुनाव भी लड़ा था। लेकिन वह जीत नहीं पाईं थी। चुनाव के 5 महीने बाद उन्होंने कॉन्ग्रेस की अंदरूनी राजनीति से तंग आकर दिया इस्तीफ़ा दे दिया था।

इस्तीफा देते वक़्त उन्होंने एक बयान में कहा था, “मेरी राजनीतिक और सामाजिक संवेदनशीलता का एक बड़े लक्ष्य पर काम करने के बजाय मुंबई कॉन्ग्रेस में कुछ लोग आपसी लड़ाई के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं।” उन्होंने कहा था, ” मेरी सामाजिक और राजनीतिक संवेदनाएँ इस बात की इजाजत नहीं देती कि पार्टी के कुछ लोग मुंबई कॉन्ग्रेस के भले के लिए काम करने की जगह अपनी तुच्छ राजनीति के तहत निहित स्वार्थ की पूर्ति के लिए मेरा इस्तेमाल करें।”

उर्मिला मातोंडकर ने कॉन्ग्रेस उम्मीदवार के रूप में मुंबई उत्तर सीट से लोकसभा चुनाव लड़ा था। इस चुनाव में उन्हें भाजपा नेता गोपाल शेट्टी के हाथों हार का सामना करना पड़ा था।

आपको बता दें कि उर्मिला ने कॉन्ग्रेस ज्वाइन करते वक़्त कहा था कि राजनीति में वो ग्लैमर की वजह से नहीं आई हैं बल्कि विचारधारा के कारण कॉन्ग्रेस में शामिल हुई हैं। उन्होंने कॉन्ग्रेस के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी के नेतृत्व पर कहा था, “देश को सबको साथ में लेकर चलने वाला नेता चाहिए, ऐसा नेता जो भेदभाव नहीं करता हो। राहुल एकमात्र ऐसे नेता हैं जो सबको साथ लेकर चल सकते हैं।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राचीन महादेवम्मा मंदिर विध्वंस मामले में मैसूर SP को विहिप नेता ने लिखा पत्र, DC और तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई की माँग

विहिप के नेता गिरीश भारद्वाज ने मैसूर के उपायुक्त और नंजनगुडु के तहसीलदार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए SP के पास शिकायत दर्ज कराई है।

कोहाट दंगे: खिलाफ़त आंदोलन के लिए हुई ‘डील’ ने कैसे करवाया था हिंदुओं का सफाया? 3000 का हुआ था पलायन

10 सितंबर 1924 को करीबन 4000 की मुस्लिम भीड़ ने 3000 हिंदुओं को इतना मजबूर कर दिया कि उन्हें भाग कर मंदिर में शरण लेनी पड़ी। जो पीछे छूटे उन्हें मार डाला गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,733FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe