Thursday, July 29, 2021
Homeसोशल ट्रेंडकोर्ट में राम मंदिर के खिलाफ बिना जानकारी के दिए बयान: वामपंथी 'इतिहासकारों' ने...

कोर्ट में राम मंदिर के खिलाफ बिना जानकारी के दिए बयान: वामपंथी ‘इतिहासकारों’ ने स्वीकारा

JNU की प्रोफेसर सुवीरा जायसवाल ने स्वीकार किया कि वो बाबरी मस्जिद के बारे में कुछ नहीं जानती थीं। इस मुद्दे पर उन्हें जो भी जानकारी थी वह मीडिया रिपोर्ट्स और ‘हिस्टोरियंस रिपोर्ट टू द नेशन’ से मिली थी, जिसे SupremeCourt ने पूरी तरह से ख़ारिज कर दिया था......

सदियों बाद अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फ़ैसला आया जिसका सभी ने स्वागत किया। फ़ैसले के साथ ही राम जन्मभूमि पर एक भव्य राम मंदिर के निर्माण का रास्ता भी साफ़ हो गया। लेकिन इस फ़ैसले के बाद, वामपंथी, इतिहासकारों, प्रोफेसरों के ऐसे कई बयान और शपथपत्र सामने आए हैं जो इन्होंने इलाहबाद हाईकोर्ट में दिए थे, ये इनके ज्ञान और कहीं न कहीं इनकी द्वारा शिक्षित छात्रों की भयावह तस्वीर उजागर करती है। वैसे इन सबने सोशल मीडिया पर भी इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपना दु:ख व्यक्त किया है।

ट्विटर यूजर @PeeliHaldi ने ट्विटर पर, वामपंथी इतिहासकारों द्वारा पेश किए गए कुछ हास्यास्पद प्रमाणों का उल्लेख किया। 

जेएनयू की एक प्रोफेसर सुवीरा जायसवाल ने स्वीकार किया कि वो बाबरी मस्जिद के बारे में कुछ नहीं जानती थीं। जब वह अस्तित्व में आई तो उसे यह नहीं पता था कि इस मुद्दे पर उन्हें जो भी जानकारी थी वह मीडिया रिपोर्ट्स और ‘हिस्टोरियंस रिपोर्ट टू द नेशन’ से मिली थी, जिसे अदालती कार्यवाही के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने पूरी तरह से ख़ारिज कर दिया था। 

एक अन्य इतिहासकार एससी मिश्रा ने कोर्ट में कहा था कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि जज़िया क्या था। उन्होंने कहा, ”मुझे याद नहीं है कि जज़िया केवल हिन्दुओं पर लगाया गया था।” इसके आगे उन्होंने कहा, “मैंने बाबरी मस्जिद के निर्माण के बारे में कई किताबें पढ़ी हैं, लेकिन मुझे इस वक़्त किसी किताब का नाम याद नहीं है।”

Ram Mandir

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पीएचडी डिग्रीधारी सुशील श्रीवास्तव ने निष्कर्ष निकाला कि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि मस्जिद किसी मंदिर को ध्वस्त करने के बाद बनाई गई थी, भले ही वह फारसी पढ़ या लिख ​​नहीं सकते थे, अरबी नहीं पढ़ सकते थे और संस्कृत का भी ज्ञान उन्हें नहीं था। इसके लिए उन्होंने अपने ससुर एसआर फारूकी की मदद ली थी।

अगर यह सब विचित्र नहीं था, तो इसके आगे उन्होंने जो कहा उसे पढ़िए, “मुझे एपिग्राफी का कोई ज्ञान नहीं है। मुझे न्यूमिज़माटिक का कोई ज्ञान नहीं है। मैंने पुरातत्व में कोई विशेषज्ञता हासिल नहीं की। मैंने भूमि के सर्वेक्षण के बारे में कोई ज्ञान हासिल नहीं किया…”

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में एक सेवानिवृत्त प्रोफेसर सूरज भान ने भी श्रीवास्तव के बारे में बहुत कुछ कहा। उनका मानना ​​है कि रामायण मूल रूप से तुलसी दास द्वारा लिखी गई थी। एक इतिहासकार के रूप में दिल्ली विश्वविद्यालय के आरसी ठकरान ने “समाचार पत्रों और पत्रिकाओं को ज्ञान का स्रोत माना” और स्वीकार किया कि उन्होंने “इस संबंध में किसी इतिहासकार द्वारा एक पुस्तक नहीं पढ़ी।” ठकरान ने खुद को एक ‘फील्ड पुरातत्वविद्’ की बजाए ‘टेबल पुरातत्वविद्’ के रूप में वर्णित किया। ।

Ram Mandir

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के सेवानिवृत्त प्रोफेसर डी मंडल ने कहा था, “मैं कभी अयोध्या नहीं गया। मुझे बाबर के के इतिहास का कोई विशेष ज्ञान नहीं है।” उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि उन्हें ‘यज्ञ’ या ‘वेद’ का अर्थ नहीं पता था। शायद इसकी जानकारी उन्हें JNU की पीएचडी (हैदराबाद विश्वविद्यालय) होल्डर सुप्रिया वर्मा से मिली।

सुप्रिया वर्मा के मुताबिक, “यह कहना ग़लत है कि ‘यक्ष’ या ‘यक्षी’ का संबंध केवल हिन्दू धर्मशास्त्र तक सीमित है। वास्तव में, यह बौद्ध धर्म से भी जुड़ा हुआ है।” इसके बाद, अपने शब्दों का रुख़ मोड़ते हुए उन्होंने कहा, “मैं यह नहीं कह सकती कि ‘यक्ष’ या ‘यक्षी’ शब्द बौद्ध धर्म की किस धार्मिक पुस्तक में उल्लेखित है।”

ग़ौर करने वाली बात यह है कि ये वो इतिहासकार हैं जिन्होंने राम मंदिर मामले पर अपना वामपंथी प्रोपेगेंडा फैलाने का काम किया। कोर्ट में दिए गए इनके बयानों से लोगों के भरोसे को ठेस पहुँचेगी और साथ ही इससे हमारे देश की शिक्षा प्रणाली के प्रति लोगों का विश्वास भी कम होगा। यह विश्वास करना लगभग मुश्किल है कि इस तरह के बयान शपथ के तहत एक संतुलित दिमाग वाले लोगों द्वारा दिए गए थे।

इससे भी अधिक चिंता का विषय यह है कि इन लोगों ने उन छात्रों को भी शिक्षित किया जो भविष्य में सैकड़ों लोगों को शिक्षित करेंगे। यह हमारी शिक्षा की स्थिति की एक भयानक तस्वीर को उजागर करता है। इससे यह बात भी स्पष्ट हो जाती है कि वर्तमान सरकार को प्राथमिकता के आधार पर छात्रों को पढ़ाए जाने वाले इतिहास के पाठ्यक्रम में संशोधन की आवश्यकता क्यों है?

* इस रिपोर्ट में उपयोग की गई सभी तस्वीरों को @PeeliHaldi से लिया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्ज में डूबा, 4 साल से एडमिशन नहीं: दामाद के परिवार का मेडिकल कॉलेज, दरियादिल हुई भूपेश बघेल सरकार

दामाद के परिवार से जुड़े मेडिकल कॉलेज पर सरकारी दरियादिली को लेकर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सवालों के घेरे में हैं।

मेडिकल कॉलेजों में OBC को 27%, EWS को 10% आरक्षण: MBBS में 56% और पीजी में 80% की वृद्धि – मोदी सरकार का ऐतिहासिक...

केंद्र सरकार द्वारा आरक्षण के फैसले को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि यह सामाजिक न्याय का नया प्रतिमान बनाने में मदद करेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,836FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe