Tuesday, September 21, 2021
Homeसोशल ट्रेंड'हनुमान और गणेश जानवर हैं, जीसस को अपनाओ: देखिए कैसे पालघर में चल रहा...

‘हनुमान और गणेश जानवर हैं, जीसस को अपनाओ: देखिए कैसे पालघर में चल रहा था घृणा का खेल’

उस क्षेत्र में मिशनरियों का प्रभाव होने की बात भी पता चली है। यहाँ 2019 में ही मिशनरियों का एक वीडियो सामने आया था, जो बताता है कि वो धर्मान्तरण के लिए क्या-क्या कर रहे हैं। क्या उन्हें ऐसी घटनाओं के लिए जिम्मेदार नहीं माना जा सकता, जो लगातार लोगों में हिन्दू देवी-देवताओं और साधु-संतों के ख़िलाफ़ ज़हर भरने में लगे रहते हैं।

पालघर में दो साधुओं की भीड़ द्वारा निर्मम हत्या के मामले में 110 लोग गिरफ़्तार किए जा चुके हैं। वहाँ हुई इस घटना के बाद तरह-तरह को बातें सामने आ रही हैं। जैसे, वहाँ एक डॉक्टर पर हमला हो चुका था और एक मानसिक रूप से बीमार तमिल व्यक्ति को मारा-पीटा गया था, जिसके बाद पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही। हत्यारी भीड़ के साथ एनसीपी और सीपीएम के नेताओं की मौजूदगी भी संदेह खड़ा करती है। आख़िर क्या कारण है कि साधुओं के प्रति घृणा का अंजाम इस वारदात के रूप में हुआ? भगवा के प्रति इस घृणा का कारण क्या? पहली नज़र में ही ये आम वारदात नहीं लगती।

उस क्षेत्र में मिशनरियों का प्रभाव होने की बात भी पता चली है। यहाँ 2019 में ही मिशनरियों का एक वीडियो सामने आया था, जो बताता है कि वो धर्मान्तरण के लिए क्या-क्या कर रहे हैं। क्या उन्हें ऐसी घटनाओं के लिए जिम्मेदार नहीं माना जा सकता, जो लगातार लोगों में हिन्दू देवी-देवताओं और साधु-संतों के ख़िलाफ़ ज़हर भरने में लगे रहते हैं। अप्रैल 2019 में ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था, जिसकी चर्चा अब फिर से हो रही है। ये वीडियो मिशनरियों की सच्चाई को बयान करता है।

इस वीडियो में मिशनरी कहते दिख रहे हैं कि गणपति तो हाथी हैं और हनुमान एक बन्दर हैं, ऐसे झूठे भगवान तुम्हें कैसे बचा सकते हैं? साथ ही वो जीसस क्राइस्ट को स्वीकार करने की अपील भी कर रहे हैं। ये वीडियो महाराष्ट्र के कोंकण स्थित पालघर का था, जहाँ से कुछ दूरी पर आज ये घटना हुई है। जहाँ साधुओं की हत्या हुई, वो भी पालघर जिला ही है। भगवान गणेश और हनुमान के लिए आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग करने वाले ये मिशनरी लोगों के दिलों में हिन्दू देवी-देवताओं के प्रति घृणा भर रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में अक्सर सामने आता ही रहता है। देखें वीडियो:

पालघर हत्याकांड पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर भी सवाल उठ रहे हैं। उन्होंने भी तभी ट्वीट किया, जब इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। साथ ही इसे साम्प्रादायिक एंगल न देने की अपील भी की गई। एनसीपी और सीपीएम नेताओं की मौजूदगी पर सरकार की तरफ से कुछ नहीं कहा गया है। उद्धव ठाकरे ने आज फिर से बयान दिया, जिसमें उनका पूरा जोर इसे सांप्रदायिक रंग न देने को लेकर था। हालाँकि, शिवसेना के अन्य नेतागण सोशल मीडिया पर इसे लेकर आरोप-प्रत्यारोप करने में ही जुटे हुए हैं। तभी केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने महाराष्ट्र सरकार से रिप्लाई माँगा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अल्लाह करे न्यूजीलैंड के सारे खिलाड़ी मर जाएँ’: शोएब अख्तर ने कहा- पिंजा लगाने का समय आ गया, छोड़ना नहीं है

न्यूजीलैंड और इंग्लैंड द्वारा अपनी-अपनी क्रिकेट टीमों का पाकिस्तान दौरा रद्द किए जाने से न सिर्फ वहाँ के आम लोग, बल्कि पूर्व क्रिकेटर्स भी खासे नाराज़ नजर आ रहे हैं।

‘अमित शाह के मंत्रालय ने कहा- हिंदू धर्म को खतरा काल्पनिक’: कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता को RTI एक्टिविस्ट बता TOI ने किया गुमराह

TOI ने एक खबर चलाई, जिसका शीर्षक था - 'RTI: हिन्दू धर्म को खतरा 'काल्पनिक' है - केंद्रीय गृह मंत्रालय' ने कहा'। जानिए इसकी सच्चाई क्या है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,490FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe