विषय: पतंगबाजी

गुजरात, मकर संक्रांति, पतंग

‘काय पो छे’ हो या ‘भक काटे’: पतंग उड़ाने का असली मजा तो गुजरात में है

दादियाँ दादा जी को अपने समय की पतंगबाजी याद दिलाती हैं और दादा ताव में आकर खड़े हो जाते हैं दादी को ये दिखाने कि मैं अभी बूढ़ा नहीं हुआ हूँ। अब भी ये लड़के मेरी पतंग के आगे नहीं टिक सकते और पतंग कटते ही, 'सालो चाइनीज़ माँझो वापरे छे' कहकर वापस आकर बैठ जाते हैं।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

142,137फैंसलाइक करें
34,807फॉलोवर्सफॉलो करें
158,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements