Tuesday, June 18, 2024
2 कुल लेख

प्रमिला दीक्षित

प्रमिला करीब दो दशक से पत्रकारिता से जुड़ी हैं। निर्भया कांड से लेकर केदारनाथ त्रासदी तक को कवर कर चुकी हैं। मातृश्री, यूथ आइकन समेत कई पुरस्कारों से सम्मानित की जा चुकी हैं।

देखने नहीं… फेस करने की फिल्म है The Kashmir Files: दिल के तार न झनझनाए तो नर्व नहीं अपना नैरेटिव चेक करिए

The Kashmir Files को आप रेट नहीं कर सकते, इसे रेटिंग नहीं काउंटिंग की दरकार है। काउंटिंग मतलब - कितनी हत्याएँ, कितने रेप, कितनों का छूटा घर?

न अब वे ‘दादी जैसी नाक’ देखने आते हैं, न लड़कियाँ बस लड़ने को कूद सकतीं: 2022 के चुनावों का एक रिजल्ट यह भी

'लड़की हूँ-लड़ सकती हूँ', के लिए बैकअप चाहिए होता है। बिना बैकअप लड़कियाँ बस लड़ने के लिए कूद नहीं सकतीं। बस वही बैकअप जहाँ मिलता दिख रहा है, वो उनको चुन रही हैं।