Tuesday, July 23, 2024

राजनैतिक मुद्दे

हैदराबाद में हिन्दुओं का नरसंहार करने वाले, बांग्लादेश में क्या? समझिए PM शेख हसीना ने दंगाइयों को क्यों कहा ‘रजाकार’, आरक्षण विरोधी हिंसा से...

बांग्लादेश में प्रदर्शनकारी भीड़ ने नारे लगाए, "तुई के? अमी के? रजाकार, रजाकार! के बोलेचे? के बोलेचे? सैराचार- सैराचार ।"

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

मंगलौर के बहाने समझिए मुस्लिमों का वोटिंग पैटर्न: उत्तराखंड की जिस विधानसभा से आज तक नहीं जीता कोई हिन्दू, वहाँ के चुनाव परिणामों से...

मंगलौर में हाल के विधानसभा उपचुनावों में कॉन्ग्रेस ने भाजपा को हराया। इस चुनाव में मुस्लिम वोटिंग का पैटर्न भी एक बार फिर साफ़ हो गया।

पाकिस्तान-ईरान ने 12000 अफगानों को देश से निकाला: CAA में मुस्लिमों को जोड़ने की पैरवी कर रहा था भारत का जो गिरोह, वो इस्लामी...

पड़ोसी देशों में धार्मिक उत्पीड़ित हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, ईसाई आदि को भारत में नागरिक देने वाले CAA का विरोध करने वाले अफगान पर चुप हैं।

अस्वस्थ आडवाणी और बलिदानी कारसेवकों का अपमान, राम जन्मभूमि को हराने की बातें… बाबरी सोच के सबसे बड़े पैरोकार बन गए हैं राहुल गाँधी,...

लालकृष्ण आडवाणी ने ये रथयात्रा सिर्फ राम मंदिर के लिए नहीं निकाली थी, बल्कि इसका उद्देश्य था देश की सांस्कृतिक पहचान को पुनः पुष्ट करना। उनका सीधा कहना था - राम के मुकाबले बाबर को खड़ा करने का प्रयास गलत है।

राहुल गाँधी जी माना आप हाथरस पर ‘राजनीति’ नहीं कर रहे, पर संदेशखाली से लेकर तमिलनाडु में जहरीली शराब से मौतों तक पर आपकी...

कॉन्ग्रेस सांसद राहुल गाँधी हाथरस जाकर कह रहे हैं कि इस मामले में राजनीति नहीं होनी चाहिए... जबकि हकीकत तो ये है कि वो खुद हाथरस यही करने पहुँचे हैं।

र॒क्षस॒: सं पि॑नष्टन… हिन्दुओं को हिंसक बताने वाले राहुल गाँधी, शिव का त्रिशूल अंधकासुर जैसों के शरीर में गाड़ने के लिए भी है

राहुल गाँधी ने 'शक्ति के विनाश' की बात करने के बाद अब संपूर्ण हिन्दू समाज को हिंसक बता दिया है। साथ ही अहिंसा का वही पुराना रटा-रटाया शिगूफा छेड़ा है। राहुल गाँधी ये बकैती कर पा रहे हैं, क्योंकि भारत में 50 लाख जवान हाथों में शस्त्र लेकर खड़े हैं। हिन्दू धर्म कहता है - राक्षसों से अहिंसा नहीं।

ममता बनर्जी के MLA के सीने में धधक रहा जो ‘मुस्लिम राष्ट्र’, वही हर ताजेमुल को तालिबानी बनाता है… मोपला से लेकर चोपरा तक...

जो चैतन्य महाप्रभु की भूमि थी, उसे पहले 1946 के नरसंहार के बाद खंडित किया गया और अब भी वहाँ शरिया ही चलाया जा रहा है। सीरिया से लेकर तमिलनाडु तक ऐसे उदाहरण भरे पड़े हैं। मोपला से लेकर चोपरा तक, खून हिन्दुओं का ही बहता है।

हजारों को जेल, लाखों की नसबंदी: जो इमरजेंसी लोकतंत्र पर बनी घाव, उस पर बात नहीं चाहती कॉन्ग्रेस, सत्ता से हुई बाहर लेकिन तानाशाही...

केसी वेणुगोपाल के पत्र ने यह साफ कर दिया है कि कॉन्ग्रेस इमरजेंसी के दौर पर खुद तो बात नहीं ही करना चाहती बल्कि बाकी लोगों को भी इस विषय में चुप करना चाहती है।

हे भारत के विपक्ष! माना तुम खलिहर हो पर ‘राजा का डंडा’ नहीं है सेंगोल, भारत की स्वतंत्रता का वह प्रतीक है जिसे तुष्टिकरण...

लोकतंत्र में विपक्ष का काम जनता की आवाज बनना है। पर भारत का विपक्ष जनता से इस कदर टूट चुका है उसके लिए सेंगोल मुद्दा है।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें