Saturday, February 27, 2021

भारत की बात

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।

एमएस गोलवलकर… वो ‘गुरुजी’ जिनका संगठन मंत्र और तंत्र आज भी प्रासंगिक: पटेल और वाजपेयी दोनों जिनके कायल

एमएस गोलवलकर लाखों स्वयंसेवकों के मार्गदर्शक हैं। आज भी स्वयंसेवक उनको ''गुरुजी" के नाम से पुकारते हैं। वो गोलवलकर ही थे, जिनके कारण...

17 साल की लड़की, फौज की 2 बटालियन और लगान माफी का लालच: अंग्रेजों को पानी पिलाने वाली रानी गाइदिन्ल्यू

रानी गाइदिन्ल्यू जिस हेराका आन्दोलन को चलाती रही, वो मुख्यतः अपनी सभ्यता-संस्कृति बचाने के लिए ही था। उन्हें बैप्टिस्ट ईसाइयों का हिंसक विरोध झेलना पड़ा।

बसंत सिर्फ ऋतु नहीं, ज्ञान की उपासना से लेकर काम और मोक्ष का जीवंत उत्सव भी है

बसंत, बसंत पंचमी, मदनोत्सव, सरस्वती पूजा, होली की शुरुआत, शमशान में मौत के तांडव पर भारी जीवन उत्सव- बसंत यह सब कुछ है।

Dickinsonia: भीमबेटका में मिला दुनिया का सबसे पुराना और दुर्लभ जानवर का जीवाश्म

भीमबेटका के ऑडिटोरियम गुफा की छत पर मिले जानवर का जीवाश्म करीब 57 करोड़ साल पुराना है। इसका नाम डिकिनसोनिया है।

इंडियन आर्मी ने कश्मीर ही नहीं बचाया, खुद भी बची: सेना को खत्म करना चाहते थे नेहरू

आज शायद यकीन नहीं हो, लेकिन मेजर जनरल डीके पालित ने अपनी किताब में बताया है कि नेहरू सेना को भंग करने के पक्ष में थे।

शाहजहाँ: जिसने अपनी हवस के लिए बेटी का नहीं होने दिया निकाह, वामपंथियों ने बना दिया ‘महान’

असलियत में मुगल इस देश में धर्मान्तरण, लूट-खसोट और अय्याशी ही करते रहे परन्तु नेहरू के आदेश पर हमारे इतिहासकारों नें इन्हें जबरदस्ती महान बनाया और ये सब हुआ झूठी धर्मनिरपेक्षता के नाम पर।

‘रामायण, रामकथा अनादि है… अनंत है’: गुरु गोविंद सिंह को भूल गए सिख-हिंदू में घृणा फैलाने वाले कट्टरपंथी और नेता

आज 'किसान आंदोलन' के नाम पर हिन्दुओं और सिखों को अलग-अलग दिखाने की कोशिश हो रही है। ऐसे लोग गुरु गोविंद सिंह को पढ़ें और समझें।

कुतुब मीनार किसने बनवाया? NCERT बिना सबूत के पढ़ा रही – ‘गुलाम वंश के सुल्तानों ने बनवाया’ – RTI से खुलासा

NCERT में लिखा है कि कुतुब मीनार को कुतुबुद्दीन ऐबक और इल्तुतमिश ने बनवाया। लेखक नीरज अत्री ने इसे लेकर एक RTI दायर की थी, जिसके जवाब में...

क्या स्वामी विवेकानंद ने गीता फेंक कर फुटबॉल खेलने की बात कही थी?

स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि 'गीता पढ़ने से बेहतर है कि फुटबॉल खेलो'। उनका युवाओं से किया गया यह विशेष आह्वान अक्सर विवाद और चर्चा का विषय रहता है।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

292,062FansLike
81,854FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe