Thursday, May 23, 2024

सामाजिक मुद्दे

कहीं बहन से भाई कर रहा रेप, कहीं सेक्स के लिए पाटर्नर हो रहे वहशी: रिश्तों को खा रहा पोर्न की सुलभता, छोटी उम्र...

छोटे से छोटे बच्चे के लिए पोर्न देखना आज के समय में इतना आसान हो गया है जैसे पहले रिमोट से चैनल बदलना हुआ करता था। इसी सुलभता के दुष्प्रभाव अब समाज झेल रहा है।

₹200 की चोरी पर 1 साल की जेल, 2 इंजीनियरों को कुचलने पर रईसजादे को बेल, कहा- हादसे पर लिखो लेख: यह न्याय है...

ऑपइंडिया से बात करते हुए अधिवक्ता शशांक शेखर झा ने पूछा कि पुलिस ने FIR में 304 की जगह कमजोर धारा 304A क्यों लगाई? उन्होंने कहा कि इस मामले में गलत संदेश गया है, अगर भीड़ ने न्याय व्यवस्था पर भरोसा करने की बजाए खुद हिंसा करना शुरू कर दिया तो ये ठीक नहीं होगा।

कहीं फटा बम, कहीं भेड़-बकरियों की तरह ठूँसे बच्चे, कहीं यौन शोषण कर रहा मौलवी… ये कौन सा ‘दीनी तालीम’ दे रहे मदरसे, कौन...

दीनी तालीम देने के नाम पर चलाए जा रहे मदरसे आज कट्टरपंथ और यौन शोषण का अड्डा बनते हुए दिखाई दे रहे हैं। आए दिन इनसे जुड़ी खबरें मीडिया में आती हैं।

हिंदुओं की आबादी 66 से घटकर 54%, मुस्लिम बढ़ गए 6 से 26%: मिलिए जनसंख्या वृद्धि दर के ‘केरल मॉडल’ से – यह लेख...

केरल में हिंदू घट रहे, मुस्लिम बढ़ते चले जा रहे। सिर्फ केरल ही नहीं, पश्चिम बंगाल में भी हिन्दुओं की जनसंख्या घटती जा रही है।

विवाद मैदान का, खुद के मजे के लिए KL राहुल का ‘परिवार’ घसीट लाए मीमबाज: फैन नहीं कोढ़ है वह मानसिकता जो क्रिकेटरों की...

गोएनका और के एल राहुल की वीडियो देख आलोचना करने वाले लोग वहीं हैं जो पसंदीदा क्रिकेटर के आउट होने पर उसको माँ-बहन की गाली देने लगते हैं।

8 साल, 150 बार रेप, मामला निकला झूठा… ‘शादी का झाँसा देकर बलात्कार’ वाले केस कितने सही? प्रेम करना हो जाएगा मुश्किल, FIR होते...

किसी महिला द्वारा एक पुरुष के विरुद्ध बलात्कार का मामला दर्ज कराए जाते ही उसे अपराधी मानने का चलन खत्म करना होगा।

जज की टिप्पणी ही नहीं, IMA की मंशा पर भी उठ रहे सवाल: पतंजलि पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, ईसाई बनाने वाले पादरियों के ‘इलाज’...

यूजर्स पूछ रहे हैं कि जैसी सख्ती पतंजलि पर दिखाई जा रही है, वैसी उन ईसाई पादरियों पर क्यों नहीं, जो दावा करते हैं कि तमाम बीमारी ठीक करेंगे।

चीन से आई बीमारी, मोदी सरकार ने की नसबंदी, फिर भी रिश्ते तक को रहा लील: जिंदगी छीन रहा मनोरंजन का यह ट्रेंड

टिकटॉक ने ऐसा वर्ग को पैदा किया जो फेमस होने के लिए कुछ भी करने को तैयार थे। अब वो ऐप बैन है लेकिन इससे प्रभावित लोग अब भी वर्चुअल दुनिया के गुलाम हैं।

‘बहरों को सुनाने के लिए ऊँची आवाज़ की ज़रूरत’: ब्रिटिश सरकार को नाकों चने चबवा दिए थे भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु, शहीद दिवस...

सैंडर्स की हत्या के लिए भगत सिंह, राजगुरू और सुखदेव को आज ही के दिन यानी 23 मार्च 1931 को फाँसी दे दी गई थी।

भारत की स्त्रियों का गरिमामयी और सशक्त इतिहास: पुरुषों के साथ मिलकर रची हैं सफलता की कहानियाँ, आवश्यकता है संपूरकता के विमर्श की

यदि रावण ने सीता माता का हरण किया तो उनकी रक्षा के लिए पुरुषों ने योगदान दिया। यदि स्त्रियों ने जौहर किया तो साका भी हजारों पुरुषों ने किया।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें