Wednesday, February 28, 2024

संस्कृत

‘सोमनाथ को विवादित बनाया, पावागढ़ में धर्म-ध्वजा नहीं लहराई, मोढेरा को वोट बैंक से जोड़ा’: वालीनाथ मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के बाद कॉन्ग्रेस पर...

"तापी के काकरापार परमाणु ऊर्जा प्लांट में 2 रिएक्टर राष्ट्र को समर्पित किए गए, ये दोनों रिएक्टर 'मेड इन इंडिया' टेक्नोलॉजी से तैयार किए हैं।"

धर्मनिरपेक्ष-महाकाव्यमिदं रामायणं धर्मव्यतिरिक्तं न विद्यते अपितु सर्वश्रेष्ठधर्मण: शिक्षक:

विपुले संस्कृतवाङ्मये रामायणं बीजरूपमहाकाव्यम्। उत्तरवर्तीनां काव्यानाम् उपजीव्य अयं ग्रन्थ:। न केवलं संस्कृतभाषायां अपितु अनेकासु भाषासु रामायाणमाश्रित्य काव्यानि प्रवृत्तानि। वस्ततस्तु रामायणमेव गीतिकाव्यस्य आधारभूतं काव्यं महाकाव्यानां विकासपरम्परायां आदिमं सोपानम्।

भारतस्य महाख्यानम् – अनन्तत्वस्य परमसंरक्षणम्

मम मतानुसारम् अस्माकं भारतीयानां महाख्यानस्य त्रयः भागाः। प्रथमं नाम भारतमेव ईश्वरस्य अनन्तत्वदर्शनस्य परमसंरक्षकम्। द्वितीयं नाम विश्वगुरुत्वेन अस्माभिः ईश्वरस्य अनन्तत्वं लोके पाठनीयम्। तृतीयं नाम वयं सम्राज्ञः भरतस्य वंशजाः प्रजाः च।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe