विषय: Godhra

सिद्धार्थ वरदराजन जैसे वरिष्ठ पत्रकार से यह तो उम्मीद की ही जा सकता है कि कम-से-कम तथ्य और अपनी राय को अलग-अलग तो रखें!

पत्रकारिता के (अ)नैतिक प्रतिमान सिद्धार्थ वरदराजन से और उम्मीद भी क्या है

हर खबर में इन्हें ‘एंगल’ ही यह दिखता है कि कैसे मोदी को गरियाने मिल जाए। यही इनका पत्रकारिता का (अ)धर्म है, यही इनकी (अ)नैतिक जिम्मेदारी है।
याकूब पटियाल

गोधरा कांड: 16 साल बाद पकड़ा गया याकूब, मिली उम्रकैद, ट्रेन में आग लगाकर 59 की जान लेने में था शामिल

इससे पहले 2015 में इस मामले में याकूब के भाई कादिर को गिरफ्तार किया गया था, लेकिन मामले की सुनवाई के दौरान ही कादिर की जेल में मौत हो गई थी।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

41,476फैंसलाइक करें
7,944फॉलोवर्सफॉलो करें
64,172सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें