Tuesday, October 19, 2021

विषय

Human Trafficking

ओमान में शेख के चंगुल से छूटने के लिए यूपी पुलिस से महिलाओं ने लगाई गुहार, ऑडियो संदेश भेजकर माँगी मदद

ओमान में शेख के चंगुल में फँसी यूपी की महिलाओं ने डीसीपी को मैसेज भेजकर मदद माँगी है। आपबीती सुनाते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें बचा लिया जाए।

यूपी पुलिस ने 33 बच्चों को तस्करी से बचाया, हाशिम, शाहिद, और शमशुल समेत 8 गिरफ्तार: मदरसा ले जाने का बनाया बहाना

आरोपितों में मोहम्मद हाशिम, शाहिद आलम, नोमान, अब्दुल सलाम, मुशाबिर, शाह आलम, शमशुल हक और हाफिज जावेद शामिल हैं।

बांग्लादेश से लाई गई किशोरी से करवा रहे थे देह व्यापार: मिजानूर, अजमिरा खातून और मुर्तजा शेख गिरफ्तार

गरीब परिवार की मासूम लड़कियों को भारत में काम दिलवाने और उनके परिजनों को रुपए का लालच देकर वे किशोरियों व युवतियों को भारत लाते हैं। फिर यहाँ उनसे देह व्यापार करवा कर उनका शोषण करते हैं।

भूख, पिटाई, शोषणः नफीसा ने बताया कैसे औरतों की जिंदगी जहन्नुम बनाता है शफी, कई महिलाओं ने की घर वापसी

नफीसा हो या रेशमा या फिर उन जैसी दर्जनों औरतें। सबका दुख साझा है। सबको शफी ने फॅंसाया और फिर प्रताड़ना का सिलसिला शुरू हुआ।

दो दिन से गायब नाबालिग बहनों को टेलर मास्टर ज़फर ने बनाया था बंधक: पटना से बाहर भेजने की थी तैयारी

आरोप है कि उसने ही दोनों बच्चियों को अपने दुकान पर बंधक बना लिया था। लड़कियों के विरोध करने पर आरोपित जफर उनके हाथ पैर बाँध कर उन्हें बेहरमी से पीटता और चिल्लाने पर दाेनाें काे बार-बार ठंडे पानी से नहला देता था।

19-25 साल की लड़कियों की करते थे तस्करी, 80 के दशक से ही चला रहे थे सेक्स रैकेट: 9 बांग्लादेशी सहित 12 के खिलाफ...

छापेमारी के दौरान 10 मानव तस्करी में लिप्त अपराधियों को गिरफ्तार किया गया था। 4 बांग्लादेशी लड़कियाँ भी बरामद की गई थीं, जिन्हें शेल्टर होम में रखा गया है।

मदर टेरेसा की मिशनरी में लाई गई 450 गर्भवती औरतें, 280 के बच्चों का पता नहीं: बाल आयोग पहुँचा SC

3 सालों में 450 यहाँ गर्भवती महिलाओं को भर्ती किया गया। लेकिन सिर्फ़ 170 बच्चों का ही रिकॉर्ड दर्ज है। बाकी 280 शिशुओं के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है। उनका क्या हुआ?

केंद्र सरकार द्वारा सेक्स वर्कर्स और मानव तस्करी पीड़ितों को बैंकिंग सुविधाओं से जोड़ने की पहल

केंद्र सरकार की यह पहल समाज के वंचित, शोषित वर्ग के साथ ही उन लोगों के लिए एक मील का पत्थर साबित हो सकती है जो अब तक किसी भी प्रकार की वित्तीय सुविधाओं के दायरे में और सरकारी सुविधाओं का लाभ उठाने से वंचित रहे हैं।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,884FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe