Saturday, May 15, 2021

विषय

Kashmir

कृष्णा ढाबा के बाद श्रीनगर के शिव शक्ति मिष्ठान भंडार पर आतंकियों ने की गोलीबारी: 2 पुलिसकर्मी वीरगति को प्राप्त

इस घटना का वीडियो भी सामने आया है। बलिदानी पुलिसकर्मियों की पहचान हवलदार सुहैल अहमद और मोहम्मद युसूफ के रूप में हुई है।

अब्बा सरकारी मास्टर, खुद अलीगढ़ कॉलेज से पढ़ाई और धंधा… आतंकियों को पिस्टल की सप्लाई: बिहार से धराया जावेद

जावेद ने आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए कश्मीर के मुश्ताक नाम के एक युवक को 7 पिस्टल मुहैया कराई थी, जिसे आतंकवादियों तक...

‘कितने में बेचा जमीर, चमचा, जूता चाटने वाला’: शाह फैसल ने की ‘मन की बात’ तो इस्लामी नाम वाले भड़के

मन की बात की तारीफ करने पर पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फैसल को इस्लामी नाम वालों ने जमकर खरी-खोटी सुनाई।

26 जनवरी के दिन ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ और ‘कश्मीर वापस लेंगे’ के नारे: अरशद, इमरान समेत 4 गिरफ्तार

आरोपित देश विरोधी बातें कर रहे थे, पहले उन सबको ऐसा करने से मना किया। लेकिन बात मानने की बजाय युवकों ने मारपीट शुरू कर दी।

इंडियन आर्मी ने कश्मीर ही नहीं बचाया, खुद भी बची: सेना को खत्म करना चाहते थे नेहरू

आज शायद यकीन नहीं हो, लेकिन मेजर जनरल डीके पालित ने अपनी किताब में बताया है कि नेहरू सेना को भंग करने के पक्ष में थे।

आएँगे हम.. अंगद के पाँव की तरह: कश्मीर घाटी से पलायन की पीड़ा कविता और अभिनय से बयाँ करती अभिनेत्री भाषा

डेढ़ साल की थीं भाषा सुंबली जब अपनी माँ की गोद में रहते हुए उन्हें कश्मीर घाटी छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा। 19 जनवरी 1990 की उस भयावह रात को अब 31 साल बीत गए हैं।

सतपाल निश्चल की हत्या का पाकिस्तान ही जिम्मेदार नहीं, भारत का ​सेक्युलर-लिबरल पॉलिटिक्स भी दोषी

जम्मू-कश्मीर में बीते दिनों आतंकवादियों ने सतपाल निश्चल की गोली मार कर हत्या कर दी। उन्हें हाल ही में डोमिसाइल सर्टिफिकेट मिला था।

इस साल भी सेना ने नहीं निकलने दिए घर-घर से अफजल: वो ऑपरेशन जिन्होंने फेल कर दिया वामपंथियों का खूनी एजेंडा

सेना ने इस साल त्राल और डोडा को भी आतंकवाद मुक्त कर दिया है। हिज्बुल के लीडर्स का भी एक-एक कर सफाया होता रहा और यह पोस्ट अब अक्सर खाली ही रहने लगी है।

बुलेट का जवाब बैलेट से: जम्मू-कश्मीर में भारत, भारतीयों और लोकतंत्र की जीत, भाजपा का उदय है बड़ा संदेश

सन 2021 की ‘पूर्वसंध्या’ में आए ये चुनाव परिणाम बहुत कुछ कहते हैं और आगामी विधानसभा चुनावों की पूर्वपीठिका निर्मित करते हैं।

पाकिस्तान की मदद के लिए आगे आया तुर्की, सीरियन आतंकियों को कश्मीर भेजने का प्लान: ग्रीस पत्रकार का दावा

रिपोर्ट से आतंकियों को कश्मीर जाने के लिए 2000 डॉलर की राशि देने की बात भी सामने आई है। आतंकियों को कहा जा रहा है कि कश्मीर भी उतना ही पहाड़ी है जितना आर्मीनिया का नार्गोनो काराबाख है।

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

295,358FansLike
94,397FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe