Sunday, July 14, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिअब मुस्लिम भी करेंगे भगवान वेंकटेश्वर की सेवा! हुसैन की अर्जी के बाद रास्ता...

अब मुस्लिम भी करेंगे भगवान वेंकटेश्वर की सेवा! हुसैन की अर्जी के बाद रास्ता निकालने में जुटा तिरुपति बोर्ड, कहा – ये ख़ुशी की बात

TTD से आंध्र प्रदेश के नायडूपेट्टा के रहने वाले मुस्लिम भक्त हुसैन भासा ने यह अर्जी की है कि उन्हें तिरुपति में सेवा करने का अवसर दिया जाए।

तिरुमला तिरुपति देवस्थानम (TTD) ने कहा है कि वह मुस्लिम भक्तों के तिरुपति की सेवा करने के रास्ते तलाशेंगे। ऐसा मुस्लिम भक्तों के अनुरोध पर किया जा रहा है। कुछ मुस्लिम भक्तों ने भगवान् वेंकटेश्वरा की सेवा करने की माँग बोर्ड से की है।

कुछ मुस्लिम भक्तों ने माँग की है कि उन्हें श्रीवरी सेवा करने का अवसर दिया जाए। यह एक प्रकार की कारसेवा होती है, इसमें बोर्ड हिन्दू श्रद्धालुओं को मंदिर से जुड़े कामों में लगाता है। हिन्दू भक्त इसे अपनी श्रद्धानुसार कर सकते हैं, इसके लिए रजिस्ट्रेशन करवाना होता है। इसकी शुरुआत TTD ने वर्ष 2000 में की थी। इस सेवा के तहत मंदिर प्रशासन ऐसे श्रृद्धालुओं को 60 से अधिक क्षेत्रों, जैसे कि- ट्रांसपोर्ट, साफ़ सफाई, अन्नप्रसादम और अन्य कार्यों में लगाता है।

TTD से आंध्र प्रदेश के नायडूपेट्टा के रहने वाले मुस्लिम भक्त हुसैन भासा ने यह अर्जी की है कि उन्हें तिरुपति में सेवा करने का अवसर दिया जाए। उन्होंने TTD से माँग की थी कि उन्हें भी श्रीवरी सेवा में हिस्सा लेना है। इसी को लेकर TTD के एग्जीक्यूटिव ऑफिसर वी धर्मा रेड्डी ने कहा है कि वह बोर्ड से बात करके इसकी संभावनाएँ तलाशेंगे। रेड्डी का कहना है यह प्रसन्नता की बात है कि अन्य धर्मों के लोग भी भगवान वेंकटेश्वर में श्रद्धा रखते हैं और उनकी उपासना करना चाहते हैं।

वेंकटेश्वर स्वामी मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है। यह आंध्र प्रदेश के तिरुपति जिले में स्थित है। इस मंदिर का निर्माण ईस्वी 300 से चालू हुआ माना जाता है। यहाँ प्रत्येक वर्ष लगभग 3-4 करोड़ श्रद्धालु भगवान वेंकटेश्वर के दर्शन करने आते हैं।

TTD 90 वर्षों से भी अधिक से तिरुमला वेंकटेश्वरा मंदिर का प्रबन्धन करता आ रहा है। इसके अंतर्गत अभी 12 मंदिर आते हैं। TTD वर्तमान में देश में सबसे सुप्रबंधित बोर्ड में से एक है और अन्य जगहों पर भीड़ व्यवस्थित करने और धार्मिक संस्थान चलाने को लेकर इसका उदाहरण दिया जाता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -