Sunday, July 14, 2024
Homeविविध विषयअन्यथम गया 23 साल से भारत के लिए रन बरसाने वाला बल्ला: मिताली राज...

थम गया 23 साल से भारत के लिए रन बरसाने वाला बल्ला: मिताली राज ने क्रिकेट को कहा अलविदा, बोलीं – टीम अब सही हाथों में

मिताली राज भारतीय महिला क्रिकेट टीम में एक स्तंभ की तरह थीं जिन्होंने पिछले 23 सालों से टीम को संभाला हुआ था। उन्होंने मैदान में उतर भारत का नाम तो रौशन किया ही किया, लेकिन साथ ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उन्होंने कई रिकॉड बनाए।

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान रहीं मिताली राज ने 23 वर्ष क्रिकेट खेलने के बाद आज अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास ले लिया। यह खबर उन्होंने अपने ट्वीट के जरिए दी। अपने मैसेज में उन्होंने बताया कि उन्होंने छोटी बच्ची रहते हुए क्रिकेट खेलना शुरू किया था और आज उन्हें इस क्षेत्र में एक लंबा सफर तय कर लिया है।

मिताली राज की संदेश में उन्होंने लिखा, “मैं एक छोटी बच्ची थी जब मैंने ब्लू जर्सी पहनकर अपने देश का प्रतिनिधित्व करना शुरू किया। ये सफर काफी लंबा रहा जिसमें मैंने हर के पल देखा। पिछले 23 साल मेरे जीवन के सबसे उम्दा पलों में से एक थे। हर सफर की तरह ये सफर भी खत्म हो रहा है। आज मैं इंटरनेशनल क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास लेने का ऐलान करती हूँ। मैने जितनी बार मैदार में पाँव रखा। हर बार मैंने इस मंशा से अपना बेस्ट दिया कि भारत जीते। मैंने अपने उस अवसर को जिया जब मुझे तिरंगे का प्रतिनिधि बनने का मौका मिला। मुझे लगता है कि अब सबसे सही समय है जब मैं अपने खेल करियर को विराम दूँ क्योंकि टीम कुछ काबिल युवाओं के हाथों मे है और भारतीय क्रिकेट का भविष्य सनुहरा है।”

अपने संदेश में मिताली ने कप्तान रहने के दौरान जो सम्मान पाया उसके लिए उन्होंने बीसीसीआई और जय शाह को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि इतने साल टीम को आगे ले जाना उनके लिए गर्व करने वाली है। उन्होंने कहा कि ये सफर भले ही यहाँ खत्म हो गया लेकिन वह किसी न किसी रूप में क्रिकेट से जुड़ी रहेंगी।

बता दें कि मिताली राज भारतीय महिला क्रिकेट टीम में एक स्तंभ की तरह थीं जिन्होंने पिछले 23 सालों से टीम को संभाला हुआ था। उन्होंने मैदान में उतर भारत का नाम तो रौशन किया ही किया, लेकिन साथ ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उन्होंने कई रिकॉड बनाए। 39 साल की मिताली अपनी बल्लेबाजी के लिए जानी जाती हैं। बतौर भारतीय कप्तान उन्होंने अब तक क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाए। मात्र 16 साल की उम्र में उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 114 रन बनाकर खुद को बल्लेबाज के तौर पर स्थापित किया था। मिताली को भरतनाट्यम का शौक था जिसके चलते कई बार उनके पैरों का कमाल फील्ड पर देखने को मिला। उनके खुद के सबसे ज्यादा रनों की बात करें तो 2002 में टेस्ट मैच के दौरान उन्होंने 214 रन बनाए थे। 2017 में वह इंग्लैंड की शार्ले एडवर्ड को पिछाड़कर ओडीआई में 6000 रन बनाने वाली पहनी महिला क्रिकेटर बनी थी। 2019 में मिताली ने ओडीआई क्रिकेट में दो दशक पूरा बिताने वाली पहली महिला खिलाड़ी का रिकॉर्ड बनाया था।

आज संन्यास लेने से पहले तक मिताली अपने 232 वनडे मैच खेल चुकी है। इनमें उन्होंने 7805 रन बनाए। वहीं टेस्ट क्रिकेट की बात करें तो बात 12 टेस्ट खेलने वाली मिताली ने 43.68 की औसत से 699 रन बनाए जिसमें उनका दोहरा शतक भी शामिल है। इस पूरे करियर में मिताली ने 89 मैच खेले जिनमें उन्होंने 2364 पन बनाए। उनके नाम बतौर कप्तान सबसे ज्यादा जीत दर्ज कराने का रिकॉर्ड हैं। इतना ही नहीं, वो अकेली कप्तान हैं जो 150 वनडे मैच में कप्तानी की और 89 में जीत हासिल की वहीं 63 में हार का मुँह भी देखने को मिला। मगर मिताली डरमगाई नहीं और टीम का नेतृत्व पूरे दमखम से किया। आज उनका क्रिकेट को अलविदा कहना न केवल उनके लिए बल्कि पूरी महिला क्रिकेट टीम के लिए भावुक करने वाला क्षण है। मिताली को भारतीय क्रिकेट टीम का सचिन तेंदुलकर भी कहा जाता था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

US में पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लगी गोली, हमलावर सहित 2 की मौत: PM मोदी ने जताया दुख, कहा- ‘राजनीति में हिंसा की...

गोलीबारी के दौरान सुरक्षाबलों ने हमलावर को मार गिराया। इस हमले में डोनाल्ड ट्रंप घायल हो गए और उनके कान से निकला खून उनके चेहरे पर दिखा।

छात्र झारखंड के, राष्ट्रगान बांग्लादेश-पाकिस्तान का, जनजातीय लड़कियों से ‘लव जिहाद’, फिर ‘लैंड जिहाद’: HC चिंतित, मरांडी ने की NIA जाँच की माँग

झारखंड में जनजातीय समाज की समस्या पर भाजपा विरोधी राजनीतिक दल भी चुप रहते हैं, जबकि वो खुद को पिछड़ों का रहनुमा कहते नहीं थकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -